कोरबा। जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल द्वारा बेहतर और हर संभव प्रयास किया जा रहा है। कोरोना संक्रमित मरीजों की बेहतर ईलाज के लिये दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं को जिला प्रशासन द्वारा निरंतर प्रदान किया जा रहा है। जिले में कोविड मरीजों के ईलाज के लिये शासकीय और निजी कोविड अस्पताल स्थापित किये गये हैं। जिले में कुल आठ कोविड संस्थान हैं जहां पर कोविड संक्रमित मरीजों को भर्ती करके ईलाज किया जा रहा है। सभी कोविड संस्थानों में स्वास्थ्य सुविधाएं और मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं को जिला प्रशासन द्वारा निगरानी रखकर सुनिश्चित की जा रही है। कोरोना संक्रमितों के लक्षणों और गंभीरता के अनुसार उन्हें कोविड अस्पतालों या होम आईसेालेशन में रखकर ईलाज किया जा रहा है। जिले के कोविड संस्थानों में कोरोना संक्रमित मरीजों के ईलाज के लिये कुल एक हजार 320 बेड की क्षमता विकसित की गई है। आठ कोविड अस्पतालों में अब तक कुल दो हजार 588 कोरोना संक्रमित मरीजों को ईलाज के लिये भर्ती किया जा चुका है। कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों में 383 मरीज अन्य जिलों के भी शामिल हैं। कुल भर्ती किये गये मरीजों में से दो हजार 313 मरीज कोरोना से स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। वर्तमान में 80 मरीजों का ईलाज कोविड अस्पतालों में जारी है। बिना या कम लक्षण वाले कोरोना संक्रमित मरीजों को घर पर ही होम आईसोलेशन में रखकर ईलाज कराने की सुविधा जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की गई है। जिले में अब तक कुल छह हजार 678 लोगों का ईलाज होम आईसोलेशन में रखकर किया जा चुका है जिनमें से पांच हजार 626 लोग होम आईसोलेशन में रहकर पूर्ण रूप से कोरोना से मुक्त हो चुके हैं। वर्तमान में 901 कोरोना संक्रमितों का ईलाज होम आईसोलेशन में रखकर किया जा रहा है। होम आईसोलेशन में रखे गये 151 मरीजों में गंभीर स्वास्थ्य की स्थिति आने पर उन्हें कोविड अस्पताल में भी रिफर किया जा चुका है।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिली जानकारी के अनुसार ईएसआईसी कोविड अस्पताल में 142 बेड की क्षमता विकसित है। इस कोविड अस्पताल में अभी तक एक हजार 087 मरीज भर्ती किये जा चुके हैं जिनमें से 976 मरीज ठीक होने के बाद अपने घर लौट चुके हैं। सिपेट कोविड केयर सेंटर में 850 बेड की क्षमता स्वीकृत की गई है। सिपेट में अभी तक 850 कोरोना मरीज ईलाज के लिये भर्ती किये जा चुके हैं तथा अब तक 810 मरीज ईलाज कराने के बाद डिस्चार्ज किये जा चुके हैं। जैनम एनजीओ महाराजा होटल कोविड संस्थान में 26 बेड की क्षमता विकसित है। अभी तक 83 कोरोना मरीज महाराजा होटल में भर्ती हो चुके हैं जिनमें से 75 मरीजों को पूरी तरह ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। कृष्णा हाॅस्पिटल में 52 बेड की क्षमता कोरोना मरीजों के ईलाज के लिये स्वीकृत की गई है जहां पर 81 मरीज अभी तक भर्ती किये जा चुके हैं जिनमें से 52 मरीज कोरोना मुक्त होकर घर को लौट चुके हैं। एनकेएच हाॅस्पिटल में 80 बेड की क्षमता स्वीकृत की गई है जहां पर 104 मरीज अभी तक भर्ती किये जा चुके हैं जिनमें से 79 मरीज ईलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। इसी प्रकार कोरोना मरीजों के ईलाज के लिये सृष्टि हाॅस्पिटल में 50 बेड, बालको हाॅस्पिटल में 70 बेड एवं सीटीआई गेवरा हाॅस्पिटल में 50 बेड की क्षमता स्वीकृत की गई है।