दिल्ली। इंसाफ न मिलने से परेशान एक महिला ने उत्तर प्रदेश भाजपा मुख्यालय के सामने खुद को आग लगा ली थी। इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई।

दरअसल, मंगलवार को भाजपा मुख्यालय के सामने खुद को आग लगाने वाली महिला अंजलि तिवारी उर्फ आयशा की इलाज के दौरान मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने राजस्थान के पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय सुखदेव प्रसाद के बेटे आलोक प्रसाद को हिरासत में लिया है। आलोक पर महिला को आत्मदाह के लिए उकसाने का आरोप है। पुलिस अब कांग्रेस नेता से पूछताछ कर रही है।
जानकारी के मुताबिक महिला अंजली तिवारी उर्फ आयशा को आत्मदाह के लिए उकसाने वाला शख्स आलोक प्रसाद उत्तर प्रदेश दलित कांग्रेस का अध्यक्ष है। उसके पिता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और केंद्र में मंत्री रहने के साथ राज्यपाल भी रह चुके हैं। पुलिस ने बताया कि पीड़िता की हालत गंभीर होने के चलते उसका बयान भी नहीं लिया जा सका। अब महिला की मौत के मामले में भाजपा और कांग्रेस दोनों एक दूसरे को घेरने में जुट गई हैं।