The duniyadari news .मेरठ में लंबे समय से सोतीगंज में चोरी-लूट के वाहन कटते हैं, ये सब जानते हैं। हाजी गल्ला, मन्नू, राहुल काला, गद्दू, इकबाल, जावेद सहित 52 कबाड़ी अब करोड़पति है। हैरानी की बात तो यह है कि उक्त कबाड़ियों से दोस्ती कर उन्हें ही लूटकर कई पुलिसवाले भी करोड़पति बन गए।
सोतीगंज पर शिकंजा कसने के लिए सदर पुलिस चोरी और लूट के वाहन काटने वाले कबाड़ियों की कुंडली खंगाल रही है। सांसद राजेंद्र अग्रवाल की चिट्ठी के बाद पुलिस प्रशासन में खलबली मची है। लेकिन इस बार भी कार्रवाई होगी या नहीं, यह बड़ा सवाल है। सब जानते हैं कि सोतीगंज में चोरी और लूट के वाहन काटकर कबाड़ी करोड़पति बन गए। कई कबाड़ी ने तो इस धंधे को छोड़कर दूसरा बिजनेस भी खड़ा कर लिया।
पुलिस का दावा है कि सोतीगंज में कई शातिर कबाड़ी छूट भैया के कंधे पर तीर चला कर अपना धंधा कर रहे हैं। सोतीगंज में शायद ही ऐसा कोई कबाड़ी हो, जिसकी दोस्ती पुलिस से न हो। पुलिस वालों ने भी सोतीगंज के कबाड़ियों को खूब लूटा और वे भी करोड़पति बन गए। ये पुलिस वाले इन कबाड़ियों के पैसों से विदेश तक घूमने जाते हैं
कबाड़ी के पैसे से पहनते ब्रांडेड सूट
आबूलेन, बांबे बाजार में शायद ही ऐसी कोई दुकान हो, जिस पर कबाड़ियों का उधार न चलता हो। इन दुकानों पर दागी पुलिस वाले जाते हैं और कबाड़ी के नाम से ब्रांडेड सूट बूट लेकर चले जाते हैं। यही वजह कि सदर थाने में एक बार पोस्टिंग होने के बाद सभी ब्रांडेड सूट बूट पहनना सीख जाते हैं। थाने से हटने के बाद भी दोस्ती बरकरार रहती है।