कोरबा।निर्माण एजेंसी के शिथिल रवैया और ठेकेदार द्वारा गुणवत्ता हीन निर्माण सामग्री का उपयोग कर कमजोर नींव के सहारे खड़े किए जा रहे बिजली के भारी भरकम खंभे जमीन का साथ छोड़ रहे हैं। ठेकेदार की लापरवाही आम जनता की जान को सांसत में डाले हुए हैं। आज गुरुवार सुबह पाली क्षेत्र में हुई मूसलाधार बारिश के दौरान एक बड़ा हादसा तब होते-होते रह गया जब बिजली का नया खंभा जमीन का साथ छोड़कर धराशाई हो गया और खींचे गए तार दुकानों के छज्जे पर अटक गए। यह तो गनीमत थी कि उक्त लाइन में अभी करंट का प्रवाह नहीं था और खम्भा मुख्य सड़क की ओर नहीं गिरा वरना बड़ी जनहानि होने से इनकार नहीं किया जा सकता था।
हम आपको बता दें कि नगर पंचायत पाली क्षेत्र के अंतर्गत सड़कों की चौड़ाई बढ़ाने, निर्माण कराने के अलावा नालियों का भी निर्माण पीडब्ल्यूडी के द्वारा कराया जा रहा है। निर्माण एजेंसी ने सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के कारण पूर्व के स्थापित बिजली खंभों को वहां से हटाकर सड़क के किनारे शिफ्ट करने का भी कार्य कराने के लिए आदेश जारी किया है। इस संबंध में बिजली विभाग ने स्टीमेट तैयार कर पीडब्ल्यूडी को सौंप दिया। बिजली खंभा शिफ्ट करने का ठेका किसी ठेकेदार को प्राप्त हुआ है। ठेकेदार के द्वारा इस कार्य में पेटी ठेकेदार भी लगाए गए हैं। इनके द्वारा 4 माह से कार्य को पूरा नहीं किया जा सका है। पुराने की जगह नए बिजली खंभे शिफ्ट करने के साथ ही विद्युत तार भी खींचा जाना है क्योंकि सड़कों की ऊंचाई निर्माण के बाद बढ़ गई है और इसके हिसाब से बिजली के तार अब नीचे हो गए हैं। कुछ दिन पहले ही रास्ते से गुजर रहा एक माल वाहन सड़क की ऊंचाई बढ़ने के कारण बिजली तार की चपेट में आ गया और आग लगने से वाहन जल गया। इस घटना से भी सबक नहीं लिया गया और बिजली खंबा शिफ्टिंग में काफी धीमी गति से कार्य जारी है। लापरवाही का एक नमूना गुरुवार  नजर आया जब पाली क्षेत्र में तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई। बारिश के कारण गांधी पुतला के पास 10 दिन पहले खड़ा किया गया बिजली का भारी-भरकम खंबा जमीन का साथ छोड़कर गिर गया। इसके सहारे बिजली के तार खींचे गए थे लेकिन करंट का प्रवाह नहीं किया गया था और यही स्थानीय लोगों के लिए बड़ा हादसा टलने का कारण भी बने।
गनीमत रही कि बारिश के वक्त यह खंभा गिरा तब कोई आवाजाही सड़क पर नहीं हो रही थी और तार में करंट भी नहीं था। यदि सामान्य मौसम में चहल-पहल के वक्त खंबा गिरता और सड़क की ओर गिरता तो जन-धन की हानि से इनकार नहीं कर सकता था। स्थानीय लोगों ने बताया कि ठेकेदार के द्वारा पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों की शिथिल कार्यवाही का पूरा लाभ उठाया जा रहा है। अब तक तो सारे खंभों की शिफ्टिंग और तार खींचने का काम पूरा हो जाना चाहिए था लेकिन कछुआ गति से हो रहे कार्य के कारण यहां के लोगों को न तो लाभ मिल पा रहा है और ना ही खतरों से छुटकारा। बिजली के भारी भरकम ऊंचे खंभों को मजबूत कांक्रीट का साथ नहीं दिया जा रहा है और नींव भी कम गहरी खोदे जाने तथा निर्माण सामाग्री का सही पैमाने पर उपयोग न करने से ऐसे और हादसों का खतरा कायम है।