न्यूज डेस्क।पीएम नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेकर बड़ा फैसला लिया था. लेकिन अभी भी किसान आंदोलन जारी है और कई जगहों पर बीजेपी के खिलाफ गुस्सा भी साफ देखने को मिल रहा है. अब ये आक्रोश इतना ज्यादा है कि लोग शादी कार्ड पर भी छपवा रहे हैं कि बीजेपी-संघ के लोगों को शादी से दूर रहना है.

ताजा मामला हरियाणा के झज्जर का है जहां पर एक शख्स ने अपनी बेटी की शादी से बीजेपी- JJP और संघ के लोगों को दूर रहने के लिए कह दिया है. सोशल मीडिया पर उस शादी कार्ड की तस्वीरें वायरल हो चुकी हैं. इस शख्स का नाम राजेश धनखड़ है जो विश्व जाट महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व ब्लॉक समिति चेयरमैन रह चुके हैं. एक दिसंबर को उनके घर पर उनकी बेटी की शादी है. उस शादी का उन्होंने कार्ड भी छपवा लिया है. लेकिन सभी की नजर उस कार्ड पर लिखे एक नोट पर जा रुकी है.

नोट में लिखा गया है कि 1 दिसंबर को होने वाली शादी में कोई भी भाजपा, जजपा और RSS से जुड़ा व्यक्ति इस शादी समारोह से दूर रहे. अब शादी कार्ड पर छपा ये संदेश ही बता रहा है कि केंद्र सरकार के खिलाफ कुछ वर्गों का गुस्सा अभी भी शांत नहीं हुआ है. कृषि कानून जरूर वापस ले लिए गए हैं, लेकिन विवाद जारी है. वैसे किसान भी अभी तक सड़कों पर डटे हुए हैं. उन्होंने अपनी छह मांगे सरकार के सामने रख दी हैं. इसमें भी MSP और किसानों के खिलाफ दर्ज हुए मामले वापस लेना प्रमुखता से बताया गया है.

अभी तक इन मांगों पर सरकार ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है,लेकिन किसानों ने अपनी आगे की रणनीति जरूर बना ली है. आज भी कई किसान पंजाब के अलग-अलग शहरों से दिल्ली आने की तैयारी कर रहे हैं. संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान भी किसान अपना प्रदर्शन जारी रखने वाले हैं.