कोरबा Theduniyadari@com। कोरोना काल को देखते हुए जिला प्रशासन को शासन की ओर से ऑनलाइन मीटिंग लेकर कार्यों को क्रियान्वयन करने का निर्देश दिया गया है इसके बावजूद भी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बेवजह भीड़ बढ़ाकर अपनी साख बचाने के लिए अधिकारी बैठक ले रहे हैं।  जिले सरकारी मातहत कर्मचारी इन दिनों असमय मीटिंग को लेकर खासा परेशान है। शासन के ऑनलाइन मीटिंग करने के आदेश के बाद भी जिला पंचायत में कभी रात 7 बजे तो कभी दोपहर को मीटिंग चल रही है। आखिरकार उच्चाधिकारियों के आदेश का अवमानना भी नहीं कर सकते निचले स्तर के अधिकारी व कर्मचारी इसका बेजा फायदा उठाते हुए फिल्ड छोड़ बैठक करने में ही समय गुजार रहे है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिला पंचायत सीईओ के लगातार मीटिंग से कई कर्मचारी सकते में है। एक तरफ लगातार बढ़ रहे संक्रमण से खतरा है तो दूसरी तरफ निर्माण कार्यो की प्राकल्लन और प्रोग्रेस रिपोर्ट की समीक्षा से इंजिनियर एसडीओ परेशान है। वैसे तो बिना राशि रिलीज किये नए पंचायत भवन का निर्माण करा लेना अपने आप में तारीफे काबिल है , लेकिन मीटिंग के नाम से घंटो लोगो को बैठकर रखना भी सही नहीं है। इससे काम करने वाले अधिकारी व अधिकारियो में आक्रोश पनप रहा है।