नई दिल्ली। Anti-Corona Vaccine: कोरोना महामारी का सामना पुरी दुनिया कर रही है। कोरोना के नए प्रकार मिलने से और सिरदर्द पैदा हो गया है। दुनिया के कई देशों में अब तरह-तरह के कोरोना सामने आ रहे हैं और इसने चिंता बढ़ा दी है। लेकिन वैज्ञानिकों ने इन सबका इलाज करने का फैसला किया है और उस दिशा में काम भी शुरू हो गया है।

वैज्ञानिक इस समय एक एंटी-कोरोना वैक्सीन विकसित करने पर काम कर रहे हैं जो कोरोना के सभी रूपों को खत्म कर देगी। इतना ही नहीं, वैक्सीन भविष्य में होने वाली महामारियों को रोकने में भी मदद करेगी।

वैज्ञानिक फिलहाल एक ऐसे टीके पर काम कर रहे हैं जो कोविड-19 के साथ-साथ अन्य सभी तरह के कोरोना के खिलाफ भी कारगर हो सकता है। फिलहाल वैज्ञानिकों द्वारा इस टीके का चूहों पर परीक्षण किया जा रहा है। संयुक्त राज्य अमेरिका में उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने अब इस पर शोध शुरू कर दिया है।

कोरोना हर तरह के वायरस को नष्ट कर देगा
एक वैक्सीन विकसित की जा रही है जो कोरोना वायरस के सभी रूपों को नष्ट कर देगी। यह वैक्सीन भविष्य की सभी महामारियों पर काबू पाने में मदद करेगी। इस वैक्सीन को सेकेंड जेनरेशन वैक्सीन कहा जाता है।

वैक्सीन कोरोना के जड़ को खत्म कर वायरस के सभी प्रकारों के खिलाफ प्रभावी है। पिछले दो दशकों में एक ही श्रेणी के दो रूपों ने दुनिया में तबाही मचा रखी है। एक है सार्स और दूसरा है कोविड-19।

मानव परीक्षण कब शुरू होगा?
वैज्ञानिकों द्वारा विकसित इस टीके का चूहों पर परीक्षण किया गया। यह दिखाया गया है कि चूहों में एंटीबॉडी का उत्पादन होता है। इससे एंटीबॉडी का विकास हुआ है जो स्पाइक प्रोटीन का प्रतिकार कर सकता है।

परीक्षण किए गए चूहे सार्स और कोविड -19 वायरस से संक्रमित थे। कहा जा रहा है कि इन सभी का विस्तृत परीक्षण चल रहा है और अगर सभी परीक्षण सही रहे तो अगले साल इसका मानव परीक्षण किया जा सकता है।