The duniyadari news. पुलिस प्रशासन और सफेदपोशों से गठजोड़ खनन माफिया को तो मालामाल कर रहा है, लेकिन आए दिन के हमलों से खाकी के इकबाल पर सवाल खड़े हो रहे हैं। हर दिन चंबल नदी से अवैध बालू खनन कर लाखों रुपये का कारोबार हो रहा है। पुलिस इसे रोकने में नाकाम है। हमले के बाद ट्रैक्टर चालकों पर कार्रवाई हो जाती है और संगठित गैंग चला रहे माफिया बेखौफ कारोबार करते रहते हैं।

राजस्थान के धौलपुर और राजाखेड़ा क्षेत्र में चंबल नदी में बालू का अवैध खनन किया जाता है। सुप्रीम कोर्ट की पाबंदी के बाद भी स्थानीय पुलिस प्रशासन की मिलीभगत से यहां से धड़ल्ले से ट्राली भरी जाती हैं। कुछ स्थानों से ऊंटों से बालू लाकर खेतों में डंप की जाती है, यहां से आन डिमांड सप्लाई होती है।
दो राज्यों में चल रही गुर्गों और माफिया की तलाश
सिपाही की जान जाने के बाद अब पुलिस की पांच टीमें माफिया के गुर्गों की तलाश में लगी हैं। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने खेरागढ़ में डेरा जमा लिया है। टीमें खेरागढ़ के रूधऊ, लालपुर, भैसोन, के साथ ही राजस्थान के खरगपुर गांव में दबिश दे रही हैं। माफिया इसी गांव का बताया जा रहा है।