कोरबा।आपदा को अवसर में बदलने गुटखा कारोबारी एक बार सक्रिय हो गए है। जिले में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन की स्थिति निर्मित हो गई है। इससे कारोबारी पुराने दिनों की याद ताजा करते हुए गुटका सामग्रियों का स्टॉक करने में जुट गये है। जानकारी के मुताबिक सामान्य दिनों में बिकने वाले राजश्री 120 रूपये से बढाकर 180 तक पहुँच चुका है।
शहर में शाम 6 बजे के बाद लॉकडाउन की घोषणा होते ही इसका असर एक बार फिर गुटखा, गुड़ाखू और अन्य उत्पादों पर पड़ा है। घोषणा के बाद से इन सामानों की कालाबाजारी शुरू हो गई। इसकी वजह से सामानो की काला बाजारी शुरू हो गए हैं। दो दिनों में ही गुटखा, पान मसाला और गुड़ाखू के दाम आसमान पर पहुंच गया है। बाजार से ये सामान एक बार फिर से गायब होता नजर आ रहा है। अनलॉक होने के बाद ये सभी सामान लोगों को आसानी से मिल रहा था लेकिन पिछले तीन दिनों से उक्त सामान दुकानदारों को छिपा कर बेचना पड़ रहा है। इधर, छोटे दुकानादारों में इन सामानों को खरीदने के लिए हाय तौबा मची हुई है। बाजार में सामान खरीदने पहुंचे गांव के एक चिल्हर दुकानदार ने बताया कि गुटखा – गुड़ाखू और सिगरेट जैसे उत्पादों के दाम रोज बढ़ रहे हैं और जो सामान आज मिल रहा है उसका कल मिलना तय नहीं है। एक व्यापारी ने बताया कि फिलहाल कीमतों में यादा वृद्धि नहीं हुई है। हालांकि आने वाले दिनों में वृद्धि होने की संभावना है। रिटेल काउंटर से गुड़ाखू गायब हो गए हैं शहर में लॉकडाउन की वजह से बाजार में गुड़ाखू को लेकर फिर से मारामारी शुरू हो गई है। बड़े दुकानों में तो गुड़ाखू मिल रहा है पर रिटेल काउंटर से यह गायब हो चुका है।बता दें कि लॉकडाउन के बाद 5 रुपए वाला गुड़ाखू 10 रुपए तक मिल रहे थे। अनलॉक के बाद इसकी कीमत कम होकर 5 रुपए तक हो गई थी। अब एक बार फिर से दामों में हुई वृद्धि ने लोगों की समस्या बढ़ा दी है।