रायपुर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को फोन कर उनसे बीजापुर में हुई नक्सली घटना के संबंध में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने उन्हें बीजापुर में राज्य और केंद्र के सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ की मैदानी स्थिति से अवगत कराया। अमित शाह ने कहा, केंद्र सरकार और राज्य सरकार मिलकर इस लड़ाई को अवश्य जीतेंगे। केंद्र सरकार की तरफ से जो भी आवश्यक मदद होगी वो राज्य सरकार को दी जायेगी।\
बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि मुठभेड़ में सुरक्षा बलों को हुई क्षति दुखद है, लेकिन फोर्स के हौसले बुलंद हैं और नक्सली हिंसा के खिलाफ यह लड़ाई हम ही जीतेंगे। उनका कहना था, नक्सल हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों में हो रहे लगातार विकास कार्यों से ग्रामीणों का नक्सलियों से मोह भंग हो रहा है। वे लगातार विकास की मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं। स्वास्थ्य , शिक्षा और अन्य सुविधाएं अंदरूनी गांवों तक सुलभ हो रही है। इससे लोग नक्सली विचारधारा को छोड़ रहे हैं। इससे बौखला कर नक्सली इस तरह के हमले कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, राज्य सरकार न इससे डरने वाली है और न हीं अपने विकास कार्यों को हर गांवों तक पहुंचाने के संकल्प से डिगने वाली है। इस बीच केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के महानिदेशक कुलदीप सिंह भी रायपुर पहुंच गये हैं।
बीजापुर जाएंगे CRPF के DG
CRPF के महानिदेशक कुलदीप सिंह सुबह रायपुर पहुंचने के बाद राज्य पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के वरिष्ठ अफसरों से मिले हैं। यहां उन लोगों ने अस्पताल में भर्ती घायल जवानों से मुलाकात की है। उनकी सेहत के बारे में बात की है और हमले से जुड़े सुरक्षा के मुDG अशोक जुनेजा आज बीजापुर में मुठभेड़ वाली जगह पर भी जाएंगे।
कल हुई थी बड़ी मुठभेड़
बीजापुर के तर्रेम इलाके में कल CRPF, DRG और STF की संयुक्त टीम के साथ नक्सलियों की बड़ी मुठभेड़ हुई। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने यहां एम्बुश लगाकर सुरक्षा बलों पर हमला किया है। इस हमले में पहले 5, फिर 8 और अब 22 जवानों के शहादत की पुष्टि हुई है। 15 से अधिक जवान घायल हैं। देर रात पता चला कि उस टीम का हिस्सा रहे 21 जवानों का कहीं पता नहीं चल रहा है। इसमेें 7 CRPF के जवान भी शामिल हैं। सुरक्षा बल पूरे इलाके की घेराबंदी कर कांबिंग कर रहे हैं।

स्रोत भास्कर