कोरबा। “बात हे छत्तीसगढ़ के अभिमान के और छत्तीसगढ़िया स्वाभिमान के ” सरकार के इस नारे को साकार करने अब छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना मैदान में उतर रही है। छत्तीसगढ़ क्रांति सेना सरकारी जमीन पर हो कब्जे को लेकर कल यानी सोमवार को तान सेन चौक पर धरना प्रदर्शन कर निगम का घेराव करेगी।
बता दें कि छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना लंबे समय से छत्तीसगढ़ के मूल निवासियों को उनका अधिकार और सम्मान दिलाने के लिए प्रयासरत है । इसके चलते आए दिन शासन प्रशासन के साथ क्रांति सेना की नोकझोंक चलती रहती है लेकिन अब छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना सरकारी जमींन पर हुए बेजाकबाजा पर कार्रवाई की मांग करते हुए निगम प्रशासन के आमने सामने है।
शहर के लगभग 230 एकड़ सरकारी आरक्षित जमींन पर राजस्व अमला और नगर सरकार के सुस्त रवैवे के कारण प्रभावशाली लोगो का कब्ज़ा है। शहर के हर चौक चौराहो में अवैध कब्जे की भरमार है कई जगह तो सरकारी जमींन का दस्तावेज तैयार कर एक नंबर बनाकर बेचने का भी गोरखधंधा राजस्व अमले शह फल फूल रहा है। इसके बाद भी मजाल है कोई भी अधिकरी सरकारी जमीं से कब्ज़ा मुक्त करा सके। हाँ ये बात अलग है कि कोई गरीब आदमी सरकारी जमीं पर कब्जा कर ले तो निगम सरकार के नुमाइंदे तोड़ने जरूर पहुँच जाते है। प्रशासान के दोहरी निति के खिलाफ छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना ने हुंकार भरते हुए सरकारी जमींन से बेजा कब्जॉ हटाये की मांग करते हुए निगम का घेराव करने की रणनीति तैयार की है।