कोरबा – छुरी के आसपास राखड़ डेम तैयार करने की सुनियोजित प्लानिंग चल रही है। इसके लिए अभी से जमीन दलाल सक्रिय हो गए हैं। छुरी सहित बिशन पर, सलोरा, दर्रा भांठा के जमीन का चिन्हाकन किया गया है। वन्दना पावर प्लांट आने के बाद पहले से ही क्षेत्र का खेती रकबा कम होने से लोग भूमिहीन हो चुके हैं, प्लांट खुलने से नौकरी की आस थी वह भी धरी की धरी रह गई। अब अगर यहां रा डेम बनी तो रही सही उपजाऊ जमीन भी किसानों के हाथ से निकल जाएगी और यहां के लोगों के हिस्से में केवल राखड धूल ही आएगा।

मिली जानकारी के मुताबिक एक पॉवर प्लांट कंपनी राख उत्सर्जन को लेकर खासा परेशान है। प्रबंधन के पास एक राखड़ डेम तो है लेकिन डेम पूरी तरह राख से लबालब हो चुका है। राख उत्सर्जन की समस्या का समाधान करने का प्रयास के बाद भी राख निपटान के लिए ठोस उपाय नही मिल पाया है। आखिरकार प्रबंधन थक हार कर अब राखड़ डेम के लिए जमीन तलाशना शुरू कर दिया है। शासन के गाइडलाइन के तहत जमीन आबंटन तो अब कर नही सकता इससे जमीन दलालों के सहारा लिया जा रहा है। जिससे भोले भाले ग्रामीणों की जमीन को औने पौने दाम में खरीदकर राखड़ डेम बनाया जा सके ।बहरहाल ग्रामीणों को प्रबंधन के मंसूबे को ग्रामीण बखूबी समझ चुके है, और कंपनी के मंसूबे पर पानी फेरने आंदोलन करने की रणनीति तैयार कर रहे है।