ट्रांसफर होते ही खाजना हो गया खाली… खजाने में बचे 36 हजार …और बांकी रकम का क्या हुआ…

0
417

कोरबा। आदर्श ग्राम पंचायत तिलकेजा के आदर्श सचिव एक और कारनामा कर सबको चौका दिया है। मामला फोरटीन फाइनेंश का है जिसमें साल में आता तो लगभग तीस लाख है लेकिन सचिव के स्थान्तरण होते ही खजाना खाली हो गया , और खजाना में 36 हजार बचे है ।आखिरकार खाते के बांकी रकम क्या हुआ यह सवालों में घेरे में है।
ज़िला पंचायत से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायतों को शासन से चौदहवाँ वित्त आयोग से मिलने वाले राशि का जमकर बंदरबांट किया जा रहा है। जनसंख्या के आधार पर मिलने वाली यह राशि सचिव व सरपंच का जेब खर्च साबित हो कर रह गया है। जिले के 412 पंचायत में अन्य मद से हुए कार्यो को कागज में दिखाकर चौदहवां वित्त की राशि आहरण कर जेब खर्च चला रहे है। हालिया मामला आदर्श ग्राम पंचायत तिलकेजा का है जंहा सचिव नर्मदा डहरिया के ट्रांसफर होते होते पंचायत का खजाना भी खाली हो गया। पंचायत के एक्सिस बैंक के खाते में महज 36हजार छोड़कर बाकी रकम हजम कर लिया गया। और पंचायत की राशि से ही ट्रांसफर रोकवाने सक्रिय हो गया है। ज़िला पंचायत से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत तिलकेजा में एक वर्ष में दो बार राशि दी जाती हैं जिसमे एक किस्त लगभग 15लाख के आसपास है। यनी दो किस्त में 30 लाख ग्राम विकास के लिए राशि दी जाती है। इतनी बड़ी राशि आखिरकार खर्च कैसे और किसके इशारे पर हुई हैं यह समझ से परे हैं।