कोरबा। छत्तीसगढ़ प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने देव भोग के प्रभारी तहसीलदार के प्रताड़ना से आत्महत्या करने वाले कर्मचारी की मौत को लेकर तहसीलदार पर अपराध करने की मांग की। यूनियन के पदाधिकारी व सदस्यों ने तानसेन चौक में कोविड 19 के गाइडलाइन का पालन करते हुए धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा है।


छत्तीसगढ़ प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के द्वारा गरियाबंद जिला देवभोग तहसील में पदस्थ शुभम पात्र को प्रभारी तहसीलदार बीएल कुर्रे के द्वारा उनकी माता जी का स्वास्थ्य ठीक ना होने के कारण मां का इलाज कराने हेतु अवकाश लेकर जाना पड़ता था किंतु तहसीलदार के द्वारा उनके खाते में छुट्टी रहने के बावजूद भी अवैधानिक करना एवं तनख्वा रोकना एवं बार-बार नोटिस देना एवं प्रभारी मंत्री महोदय की अनुमोदन पश्चात भी स्थानांतरण ना करना राशि की मांग करना एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया। तहसीलदार के प्रताड़ना से तंग आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, ऐसे भ्रष्ट एवं बद दिमाग तहसीलदार के ऊपर एफ आई आर दर्ज कर न्यायिक जांच कराने हेतु प्रांतीय सचिव जगदीश खरे के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन कर माननीय मुख्यमंत्री महोदय एवं माननीय गृह मंत्री महोदय के नाम कलेक्टर महोदय कोरबा के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया जिसमें लिपिक संघ के संरक्षक श्री सुरेश जयसवाल, अध्यक्ष प्रदीप गुप्ता, महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष जेबी करपे, उप प्रांत अध्यक्ष इकबाल खान, कोषाध्यक्ष जीएल देवांगन, सह सचिव राकेश पैकरा, संगठन सचिव दुर्गेश चौहान, उपाध्यक्ष सनत राठौर, उपाध्यक्ष दिनेश सिंह ,तहसील अध्यक्ष करतला पी पी एस राठौर तहसील अध्यक्ष कोरबा आई पी डाहीरे, संगठन सचिव सुरेश चौहान ,भीमराव आहेर, तेज राम चंद्रा ,राम कुमार बंजारे, विजय भारती, पूरन मरकाम, रामजी कवर, लोक नारायण जयसवाल, पुरुषोत्तम तिवारी, किशुन सिदार, अजय पांडे, निर्मलकर सोनी, सुनीता टंडन, अलका तिर्की, प्रभात शर्मा, सनंदन, अंजू भगत, अनुपा, भारद्वाज मैडम, कंवर मैडम, मंजू मैडम, एवं एसके द्विवेदी संरक्षक अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन कोरबा एवं समस्त लिपिक कर्मचारी साथी गण उपस्थित रहे ।