The duniyadari news . कोरोना संकट की पहले से ही मार झेल रही ट्रांसफॉर्मर इंडस्ट्री बिजली निगमों की गलत नीतियों के चलते बंद होने के कगार पर पहुंच गई हैं। पावर कॉरपोरेशन की अलग-अलग बिजली कंपनियों ने नवंबर, 2018 से ट्रांसफार्मर बनाने वाली और रिपेयरिंग करने वाली कंपनियों का भुगतान नहीं किया है। इसकी वजह से अब यह कंपनियां न तो लेबर का भुगतान कर पा रही हैं और न ही अन्य खर्चों का
पावर कॉरपोरेशन की अलग-अलग बिजली निगमों को करीब 170 करोड़ रुपये का भुगतान ट्रांसफॉर्मर निर्माता एवं रिपेयरिंग कंपनियों को देना है। शुक्रवार को प्रेसवार्ता के दौरान यूपी ट्रांसफॉर्मर इंडस्ट्रीज फोरम के कोषाध्यक्ष संजीव अग्रवाल ने बताया कि नवंबर, 2018 से मध्यांचल को छोड़कर किसी भी बिजली कंपनी से बकायों का भुगतान नहीं किया गया। इसकी वजह से करीब 50 यूनिटें बंद भी हो चुकी हैं।