कोरबा। पशुधन विकास विभाग ने हर साल दवाई व निडिल सीरीज की खरीदी होती है। 5 साल में 5 उप संचालक पदस्थ रहे। आडिट के बाद खरीदी में खामियां पाई गई थी। बताया जाता है कि कोलकाता की कंपनी से दवाई की खरीदी की गई थी, जो ब्लैक लिस्टेड थी। में कोरब में पदस्थ रहे डॉ. एके तपसी ने जवाब नहीं दिया। कई बार नोटिस जारी करने के बाद भी जवाब नहीं प्रस्तुत करने पर दोनों को निलंबित कर दिया गया है। वर्तमान में डॉ. तपसी रायपुर व जिले में पदस्थ थे।कोरबा में अपने सर्विसकाल के आधे पड़ाव को पर करने वाले डा तपसी जिला अधिकारियो का तारा रहे और भीतर ही भीतर विभाग को खोखला करने में लगे रहे।