कोरबा दुनियादारी सृष्टि इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च सेंटर के संचालन व व्यवस्था को लेकर सृष्टि के संरक्षक छत्तीसगढ़ शासन के पूर्व गृह मंत्री व रामपुर विधायक श्री ननकीराम कंवर ने संस्था को राशी देने वाले लोगो की अहम बैठक बुलाया था जिसमे सैकडो लोग आये थे शिवचरण कश्यप ने कहा कि हमने श्री ननकीराम कंवर जी के अच्छाई व ईमानदारी को देखते हुए संस्था को सहयोग राशि दिया था लेकिन समिति के पंजीयन के नियम अनुसार संस्था के अध्यक्ष ने हमें समिति का सदस्य नहीं बनाया लेकिन फिर भी हम लोग ननकीराम कंवर जी के व्यवहार को देखते हुए आज तक कुछ नहीं बोल सके मुझको देवेंद्र पांडे ने भी उस समय कहा था कि सृष्टि अस्पताल का उद्देश्य गरीब तबके लोगों को मुफ्त में इलाज करने की जो सोच ननकीराम कंवर ने रखी है वह बहुत ही उच्च सोच का प्रतीक है ननकीराम कंवर जी के इस अस्पताल में ननकी राम जी का स्टेच्यू भी बनाया जाना चाहिए ऐसा कहा था गोपाल मोदी ने भी कहा कि इस अस्पताल का निर्माण जब किया जा रहा था तब देवेंद्र पांडे एक बार भी अस्पताल के भवन को देखने तक नहीं आए थे जब भवन बन गया तो उनका आना जाना चालू हुआ था गेंद लाल शुक्ला ने कहा कि इस अस्पताल में देवेंद्र पांडे या उसके परिवार का एक ईट भी नहीं लगा है इसी तरह नटवर शर्मा ने कहा कि ननकीराम कंवर जी ने मंत्री रहते हुए गरीबों का निस्वार्थ भाव से सेवा करने के उद्देश्य से इस सृष्टि अस्पताल को बनाया था जिसमें हमारे रामपुर विधानसभा क्षेत्र के लोगों का निस्वार्थ भाव से सेवा किया भी जा रहा था लेकिन देवेंद्र पांडे ने सृष्टि अस्पताल को अपनी निजी संपत्ति समझकर सेवा भाव को दरकिनार कर दिया जिससे क्षेत्र के लोगों में काफी निराशा व आक्रोश भी देखी जा रही है सृष्टि संस्था के कोषाध्यक्ष श्रीमती शकुंतला कंवर ने कहा कि देवेन्द्र पाण्डे के द्वारा कोरे चेक में भी मुझसे दस्तखत कराया तो कई पेन्सिल से भरे चेक मे भी दस्तखत कराया है पूर्व गृह मंत्री व सृष्टि के संरक्षक ननकीराम कंवर ने कहा कि समिति में जो भी व्यक्ति सहयोग राशि दिया उन्हें सदस्य नहीं बनाया गया बल्कि अपने परिवार के लोगों को बिना पैसे दिए उन्हें सदस्य बनाया गया जो समिति के नियम के विपरीत है मैंने सृष्टि अस्पताल एवं कॉलेज की स्थापना हमारे क्षेत्र के गरीब आदिवासी तपके लोगों के इलाज व कम फिस मे पढ़ाई की सेवा के लिए संस्था की स्थापना किया गया था । ननकीराम कंवर ने बताया कि कुछ दिन पूर्व देवेंद्र पांडे ने सृष्टि अस्पताल में प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर सार्वजनिक रूप से झूठ बोला कि कोई भी व्यक्ति ₹500 देकर समिति का सदस्य बन सकता है मैं पूछना चाहता हूं देवेंद्र पांडे से कि अगर सृष्टि अस्पताल एवं कॉलेज की जो संस्था है उसमें ऐसा कहीं उल्लेख होगा तो जानकारी सार्वजनिक करें सृष्टि अस्पताल एवं कालेज बनाने में जो खर्च आया है वह राशि किस किस व्यक्ति से सहयोग लेकर बना है इनकी जानकारी सार्वजनिक करें और उनसे पूछें की सृष्टि संस्था में जितने लोग सहयोग किए हैं वह ननकीराम कंवर को देखकर किए हैं कि देवेंद्र पांडे को देखकर यदि एक भी व्यक्ति देवेंद्र पांडे को देखकर सहयोग किए हैं बोल दे तो मैं मानूं देवेंद्र पांडे के कहने एक आम व्यक्ति भी पैसा नही देगा देवेन्द्र पाण्डे जब जिला सहकारी केंद्रीय बैंक बिलासपुर के अध्यक्ष थे तो एम्पलाई की भर्ती मे अनाप शनाप घुसखोरी कर गरीब तबके लोगो से लाखो करोडो की उगाही किया है एक भी भर्ती हुये कर्मचारी आसे नही थे जिनसे देवेन्द्र पाण्डे ने पैसा नही लिया हो कई ग्रामीण तो ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने पूर्वज की जमीन घर दरबार सब बेच कर नौकरी के नाम पर पैसे दिए थे कई तो ऐसे भी हैं जिन्होंने कर्ज लेकर भी पैसे दिए उस समय क्या देवेंद्र पांडे को गरीबो का सेवा भाव दिखाई नहीं दिया । जिला सहकारी बैंक में भारी-भरकम लूट मचा कर केवल अपना जेब भरने का काम देवेंद्र पांडे ने किया था मैं मंत्री रहते भी देवेंद्र पांडे को हमेशा सलाह देता रहा कि गलत काम मत करो गलत का नतीजा गलत होता है हमने अब सृष्टि संस्था को लेकर विधिवत जितने लोग भी इसमें सहयोग राशि दिए हैं उन सब को सदस्य बनाने की प्रक्रिया प्रारंभ करने जा रहे हैं सृष्टि अस्पताल के जमीन को अब हम सरकार को सौंपने का निर्णय ले लिया है सृष्टि संस्था में देवेंद्र पांडे के द्वारा जो भी धांधली किया गया है उसकी निष्पक्ष जांच कराने का मांग हम सरकार से किए हैं सृष्टि संस्था किसी एक की जागीर नहीं हो सकती हमने इसे पूरे रामपुर विधानसभा के ग्रामीणों की सेवा के लिए बनाए थे जो कि आज भी यह सृष्टि संस्था रामपुर विधानसभा के ग्रामीणों सहित जिलों के लोगों का है सृष्टि अस्पताल को सरकार द्वारा दी गई जमीन में भी अनाधिकृत रूप से देवेंद्र पांडे के द्वारा जो कब्जा किया जा रहा है इसलिए हमने अब जमीन को सरकार को देने का मन बना लिये है हमें सरकार से बहुत उम्मीद है कि इस सृष्टि संस्था को लेकर बहुत जल्द कार्यवाही करते हुए विधिवत अस्पतालों को गरीबों की सेवा के लिए संचालित किया जाएगा सृष्टि संस्था में कार्यरत चिकित्सक एवं कर्मचारियों का 12 13 मांह से पेमेंट का भुगतान नहीं किया गया है उसके लिए हमने शासन प्रशासन के लोगों को जानकारी दे दिया है की सृष्टि संस्था के बैंक में जो फिक्स डिपाजिट जमा है उसको जब्ती बनाकर पेमेंट का भुगतान कराया जाए । सृष्टि अस्पताल जब अभी वर्तमान में बंद है तो सृष्टि अस्पताल में प्रबंधक प्रशांत पांडे को कब बनाया गया और मैं पूछना चाहता हूं कि देवेंद्र पांडे में हिम्मत हो तो सामने बोले एक कर्मचारी से प्रेस विज्ञप्ति जारी कराकर क्या साबित करना चाहता है । इस प्रकार से प्रीति अस्पताल का प्रबंधक भी पूर्ण रूप से फर्जी है ।