गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री विजय रुपाणी  को पिछले दिनों अचानक सीएम पद  से हटा दिया गया. उनकी जगह बीजेपी ने भूपेंद्र पटेल को राज्य का नया मुख्यमंत्री बनाया है. मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे चुके विजय रुपाणी ने मंगलवार को कहा कि वह पहले भी सीएम थे, आज भी हैं और आगे भी रहेंगे. हालांकि, यहां सीएम शब्द से उनका मतलब कॉमन मैन था, ना कि मुख्यमंत्री या चीफ मिनिस्टर.

एक नेशनल मीडिया से बात करते हुए विजय रुपाणी ने इस बात की भी जानकारी दी कि उनसे इस्तीफा देने के लिए कब कहा गया था. रुपाणी ने कहा, ”मुझे एक दिन पहले रात में बताया गया था कि आपको इस्तीफा देना है और फिर मैंने दोपहर को पद से इस्तीफा दे दिया.” रुपाणी ने दावा किया कि उन्होंने खुद ही संगठन में जाने की इच्छा जाहिर की थी.

गुजरात में पांच सालों तक मुख्यमंत्री रहे रुपाणी ने कहा, ”मैं पहले भी सीएम था, आज भी सीएम हूं और आगे भी सीएम रहूंगा यानी कि कॉमन मैन. अगर पार्टी मुझे बूथ लेवल जोकि बहुत छोटी जिम्मेदारी है, वह भी देती है तो उसे भी लेने के लिए तैयार हूं.”
रुपाणी की बेटी ने सुबह सोशल मीडिया पर अपने पिता को लेकर सवाल किया था. राधिका रुपाणी ने पोस्ट कर पूछा था कि क्या राजनीति में सरल होना गुनाह है? राधिका ने लिखा, ”उन्होंने (विजय रुपाणी) कभी अपने पर्सनल काम को नहीं देखा है, जो जिम्मेदारी मिली है उसे पहले किया है. कच्छ के भूंकप में भी लोगों की मदद के लिए सब से पहले गये थे. बचपन में कभी हमें मम्मी-पापा घुमाने नहीं ले जाते थे, वह किसी कार्यकर्ता के यहां ले जाते थे. यह उनकी परंपरा रही है. स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर में आतंकी हमले के वक्त मेरे पिता वहां पहुंचने वाले पहले शख्स थे, वह नरेंद्र मोदी से पहले ही मंदिर परिसर पहुंचे थे.”

वहीं, भूपेंद्र पटेल के मुख्यमंत्री बनने के बाद बीजेपी के कई नेताओं के नाराज होने की भी अटकलें लगाई जा रही हैं. बीजेपी आलाकमान ने इस बाबत मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री रुपाणी, नितिन पटेल और भूपेंद्र सिंह चुडासमा से मुलाकात की. बैठक में गुजरात बीजेपी प्रभारी भूपेंद्र यादव, बीएल संतोष शामिल रहे.

विजय रुपाणी ने बीते शनिवार को मुख्यमंत्री पद से अचानक इस्तीफा दे दिया था. दोपहर में वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल हुए थे और कुछ देर बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया. राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करने जाने समय तक किसी को भी उनके इस्तीफे की भनक नहीं लगी थी. अगले दिन (रविवार) गांधीनगर में हुई बीजेपी विधायक दल की बैठक में भूपेंद्र पटेल को राज्य का नया मुख्यमंत्री चुना गया था.