कोरबा। लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही सोमवार को बाजार में भीड़ उमड़नी तय है। राशन की दुकानें व सब्जी बाजार बंद रहने से स्टोर करने की होड़ लगी रही । इस दौरान एक बार जमकर फिजिकल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ी ।
जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए 23 सितंबर से लॉकडाउन का आदेश कलेक्टर ने जारी किया है। राशन व सब्जी दुकानों को भी खोलने की अनुमति नहीं दी गई है। पहली बार इस दौरान लोगों को सब्जी, राशन और पेट्रोल तक नहीं मिलेगा। इसे देखते हुए बाजारों और किराना दुकानों में लोगों की भीड़ उमड़ रही है।
दाल-आटे से लेकर चिकन-मटन तक हुआ महंगा
कलेक्टर किरण कौशल ने कालाबाजारी करने वालों पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है। इसके बावजूद लॉकडाउन लोगों की जेबें काट रहा है। खाद्य सामाग्री से लेकर हर चीज के दाम बढ़ गए हैं। दाल-सब्जियां, आटा-तेल, चिकन-मटन सब महंगा हो गया है। यहां तक कि सिगरेट-गुटखा और शराब तक महंगी बिक रही है।
जरूरत अनुसार ही खरीदें सामग्री-कलेक्टर
कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने साफ कहा है कि लोग बिना किसी घबराहट और शंका-आशंकाओं के अपने घरों में रहें, स्वयं को साफ और स्वस्थ रखें। सामानों की अतिरिक्त खरीदी के लिये दुकानों में भीड़ न लगायें और न ही अतिरिक्त सामान खरीदकर घरों में जमा करें, ताकि बाजार में जरूरी सामान की कमीं न हो, और दूसरे लोगो को सामान आसानी से सामान्य कीमत पर मिल सके। कलेक्टर ने लोगों से अपील की है कि वे अपनी जरूरतों के हिसाब से ही राशन और खाने-पीने की सामग्री खरीदें तथा घरों में रखें। जरूरत पड़ने पर ही दुकानों पर जायें और सामान खरीदकर लायें।उन्होने कहा कि जिला वासियों को राशन और खाने-पीने की चीजें, दवाईयां आदि अति जरूरी सामान उपलब्ध कराने के लिये सभी जरूरी इंतजाम प्रशासन द्वारा किये गए हैं।