कोरबा। शहर में बायोडीजल के नाम पर चल रहे इमोर्टेड डीजल की अवैध कारोबार का पर्दाफाश हुआ है। खाद्य विभाग की टीम ने रिसदी चौक से आरकेटीसी के चलित टैंकर से नकली डीजल जब्त कर जांच में जुटी है ।

गौरतलब है कि उर्जाधानी में बायोडीजल के नाम पर लंबे समय से चल रहे बायो
डीजल बिक्री का पर्दाफाश हुआ है। शहर के नामी ठेकेदार कम दाम पर इम्पोर्टेड डीजल मंगाकर वाहनो में सप्लाई कर रहा था। इसकी शिकायत के बाद खाद्य विभाग की टीम बायोडीजल यानी आयातित द्रब्य को पकड़ने खाद्य विभाग की टीम ने जाल बिछाई थी। आखिरकार खाद्य विभाग की टीम ने नकली डीजल कारोबारी को धर दबोचा है।प्रशसान की टीम ने रिसदी चौक गाड़ियों में खपाने के लिए लाए गए केमिकल (नकली डीजल) से भरा चलित टैंकर जब्त किया। टैंकर में 2000 लीटर केमिकल लिक्विड भरा है। इसे बायोडीजल कहा जा रहा है लेकिन यह बायोडीजल नहीं बल्कि मोबिल बनाने में इस्तेमाल होने वाला बेस पेट्रोलियम प्रोडक्ट है। खाद्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक कलेक्टर को सूचना मिलने के बाद कार्रवाई के निर्देश मिले थे।


इस सम्बन्ध में आरटीआई कार्यकर्त्ता मनीष राठौर का कहना है कि इंडस्ट्रियल सप्लाई के नाम पर बायो डीजल की बिक्री शहर में जोरो पर है। इसकी लिखित शिकायत पीएमओ कार्यालय को भेजा गया है। अवैध रूप से कम दाम पर डीजल बेचने वालो पर कार्रवाई होगी, तो निश्चित ही ऐसे अवैध कारोबारियों पर लगाम लगेगा।

आरकेटीसी ने मंगाया था तेल
खाद्य अधिकारी जितेंद्र सिंह ने बताया कि डीजल सड़क निर्माण व ट्रांसपोर्टिंग का काम करने वाली आरकेटीसी कम्पनी ने मंगाया था है। टैंकर में 2000 लीटर तेल मिला है।निरिक्षण के दौरान रिस्दी चौक से चलित टेंकर में नकली डीजल यानी पेट्रोलियम द्रब्य को जब्त किया गया है। पकडे गए टैंकर को जब्त कर बालको थाना के सुपुर्द किया गया है। फिलहाल जांच जारी है जाँच के बाद बड़े स्केंडल का खुलासा होने की संभावना है।