0 औद्योगिक संस्थानों के अलावा बाहर से आए प्रवासी मजदूर भी परेशान
कोरबा। जिले में विभिन्न औद्योगिक संस्थानों में काम करने वाले व कोविड-19 के दौरान दूसरे प्रांतों से आए प्रवासी मजदूरों की रोजगार व अन्य समस्याओं के निराकरण की मांग को लेकर भारतीय मजदूर संघ ने शुक्रवार को रैली निकालकर प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। मजदूर संघ के प्रदेश महामंत्री राधेश्याम जायसवाल ने कहा है कि कोविड-19 जैसे महामारी के संक्रमण काल में प्रदेश के मजदूरों के समक्ष आजीविका चलाने की मुश्किल खड़ी हो गई है। औद्योगिक संस्थानों में काम करने वाले मजदूर परेशान तो है ही, दूसरे राज्यों से आए जिले के प्रवासी मजदूरों को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। प्रदेश सरकार से प्रवासी मजदूरों के लिए तत्काल राहत पैकेज प्रदान करने, उनके लिए रोजगार, अनियंत्रित निजीकरण पर रोक लगाने, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सरकारी कर्मचारी का दर्जा देने, चुनावी घोषणा के अनुसार संविदा कर्मचारियों को नियमित करने, बेरोजगारी भत्ता पिछली तिथि से प्रदान करने, आंगनबाड़ी, मध्यान भोजन रसोईया, आशा वर्कर, स्कीम वर्कर को शासकीय कर्मचारी घोषित करने, वेतन वृद्धि में बढ़ोतरी, कोरबा जिले की सड़कों का सुधार, राखड़ से होने वाले प्रदूषण को कम करने, कंटेनमेंट जोन में फंसे कर्मचारियों को इस दौरान का वेतन देने, नगर निगम के 67 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमित करने, बिजली कंपनी में मेन पावर की कमी दूर करने सहित 25 सूत्री मांगे रखी गई है। इस दौरान प्रदेश महामंत्री जायसवाल के अलावा राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य लक्ष्मण चंद्रा, जिला मंत्री दिलीप कुमार यादव, जिला अध्यक्ष एपी साहू, कोषाध्यक्ष सुरेश चौबे, भवन एवं अन्य निर्माण मजदूर संघ के जिला महामंत्री श्रीनिवास राव और अन्य पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित रहे।