file photo

कोरबा। कक्षा दसवीं एवं बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में निर्धारित समय सारणी के अनुसार ही आयोजित की जाएगी। दसवीं की परीक्षाएं 15 अप्रैल से एवं बारहवीं की परीक्षाएं तीन मई से आयोजित की जाएंगी। कोरोना महामारी के कारण बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले विद्यार्थियों के हित के लिए राज्य शासन द्वारा महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल ने इस संबंध में निर्देश भी जारी कर दिए हैं। जारी निर्देशानुसार विद्यार्थियों को जारी प्रवेश पत्र एवं परीक्षा केन्द्रों के अधिकारी-कर्मचारियों के ड्युटी आदेश के आधार पर परीक्षा केन्द्रों तक आने-जाने की अनुमति रहेगी। जो विद्यार्थी कोरोना संक्रमण, लाॅकडाउन एवं कंटेनमेंट जोन आदि के कारण किसी विषय या सभी विषयों में अनुपस्थित रहते हैं तो उनकी अंकसूची में अनुपस्थित ना लिखकर ‘सी‘ लिखा जाएगा। ऐसे विद्यार्थियों को पूर्ण विषय में अंक नहीं दिए जाएंगे परंतु उसे पास श्रेणी में उत्तीर्ण माना जाएगा। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए बोर्ड परीक्षा में कोरोना पीड़ित विद्यार्थियों को किसी भी परिस्थिति में परीक्षा में नहीं बैठाया जाएगा। ऐसे विद्यार्थी जिनकी अंकसूची में ‘सी‘ अंकित होगी उनके लिए पूरक परीक्षा के साथ विशेष परीक्षा आयोजित की जाएगी। विशेष परीक्षा में प्राप्त अंको के आधार पर उनकी अंकसूची में ‘सी‘ के स्थान पर प्राप्तांक अंकित कर पुनरीक्षित अंकसूची जारी की जाएगी और उन्हें श्रेणी भी दी जाएगी।
छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए बोर्ड परीक्षा आयोजित कराने के निर्देश जिला शिक्षा अधिकारी को दिए हैं। सभी मान्यता प्राप्त शालाओं को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है। परीक्षा केन्द्र में प्रवेश से लेकर छात्रों की बैठक व्यवस्था में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा। कक्ष की क्षमता का 50 प्रतिशत तक ही छात्रों को कक्ष में बैठाया जाएगा। सभी छात्र, शिक्षक और शालाओं के अन्य अधिकारी-कर्मचारियों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। परीक्षा केन्द्रों को सेनेटाइज किया जाएगा और विद्यार्थियों सहित अधिकारी-कर्मचारियों के हाथों को सेनेटाइज करने की व्यवस्था भी की जाएगी।