रावण दहन पर कोरोना का असर… दशानन का कद घटा … बौने रावण को जलाने में किसी की रुचि नहीं

0
257

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरबा। कोरोना के कारण इस बार रावण के कद को घटा दिया गया है। कड़े नियम कानून को देखते हुए दशहरा उत्सव समिति के संचालक भी आगे नहीं आ रहे हैं। वहीं रावण दहन के लिए एड़ी चोटी एक करने वाले नेताओं द्वारा भी रुचि नहीं ली जा रही है।

नवरात्र प्रारंभ होने के साथ साथ शहर में रावण दहन की तैयारी शुरु कर दिया जाता था। नवरात्र के बाद यह दूसरा बड़़ा आयोजन हुआ करता था। शहर कार्यक्रम में अतिथि बनने के लिए नेताओं के बीच भी प्रतिस्पर्धा हुआ करता था हर साल यह देखा जाता था कि कौन से पार्टी के और कौन नेता सबसे ज्यादा रावण दहन करता है। अतिथि बनाने के लिए दशहरा उत्सव समिति संचालक भी जमकर उठापटक किया करते थे।
समितियों के बीच भी रावण के कद को लेकर प्रतिस्पर्धा रहता था लेकिन इस बार सारे रावण की उंचाई तय कर दी गई है। 60 से 80 फीट के रावण की जगह 10 फीट का रावण बनाने का आदेश दिया गया है। कार्यक्रम में अतिथि तो शामिल हो सकते हैं लेकिन रावण दहन के लिए भीड़ नहीं किया जाएगा। इससे समिति और रावण दहन करने वाले नेता दोनों को नुकसान है। जिसके कारण समिति और रावण का पुलता जलाने नेता भी रुचि नहीं ले रहे हैं।
जिले का सबसे बड़ा कार्यक्रम लाल मैदान में आयोजित किया जाता था। यहां105 फीट का रावण का पुतला बनाया जाता था जिसे देखने के लिए शहर के अलावा शहर से लगे ग्रामीण क्षेत्र के लोग भी आते थे इस कार्यक्रम सभी उच्चाधिकारी हर परिवार के साथ शामिल हुआ करते थे।
इसके बाद आरपी नगर निहारिका कोरबा का रावण बनाया जाता था पुराना बस स्टैण्ड का कार्यक्रम हर साल चर्चा में रहता है। परिवहन नगर , मुड़ापार एसबीएस कालोनी के अलावा रानी रोड और बुधवारी बाजार के समीप हर साल आदमकद रावण का पुतला बनाया जाता था लेकिन इस बार प्रतियोगिता फीकी नजर आ रही है।