कोरबा। लॉकडाउन में भी लोगो पर आईपीएल का खुमार चढ़ने के साथ ही सट्टा का बाजार सज गया है। शहर इस समय सट्टेबाजों की गिरफ्त में है. कोतवाली थाना क्षेत्र में सफेदपोश लोग आईपीएल में सट्टेबाजी करवा रहे हैं. सट्टेबाजी में युवा वर्ग संलिप्त तो है ही शहर के नामी गिरामी लोग इसमें शामिल है।  आईपीएल शुरू होने के बाद अब क्रिकेट पर सट्टा शुरू हो गया है।

दुबई में आईपीएल के आगाज के साथ ही सट्टा बाजार सक्रिय हो उठा है। मंदी और कोरोना के कारण बाजार में कैश फ्लो की कमी के बावजूद सटोरियों की निगाहें उम्मीद से भरी हुई हैं। रिस्क को समझते हुए इस बार ज्यादा जोर डिजिटली लेन-देन पर है। एप के माध्यम से बुकी ऑनलाइन दावं लगा रहे गुगल-पे समेत दूसरे डिजिटम माध्यम से पेमेंट लेने पर जोर द रहे हैं। सूत्रों की माने यो इस वर्ष आईपीएल के सट्टा खेलने का तरीका भी बदल गया है।जितना पैसा बुकी के पास जमा करेंगे वैसे ही खेलने वाले को जमा राशि के एवज में रिचार्ज वाउचर देगा और सॉफ्टवेयर का कोड जिसमे सट्टा लगा सकते है। मैच जीतने पर रिचार्ज वाउचर की राशि ऑटोमेटिक बढ़ जाता है और विड्राल करने पर सटोरिये आपके कार्ड के हिसाब से नगद भुगतान कर रहा है। इस नए तरकीब की जानकारी शायद पुलिस को भी नही होगी।

रोक नहीं पा रही पुलिस

पैसाकमाने की लालसा को बढ़ावा देने वाली क्रिकेट की सट्टेबाजी महज एक लत नहीं बल्कि खूनी खेल बनती जा रही है। सट्टेबाजी के कारण कर्ज में डूबे कई लोग आत्महत्या भी कर चुके हैं।वर्षों से शहर में चल रहे इस अवैध खेल की जानकारी होने के बावजूद पुलिस इस पर रोक लगाने में सफल नहीं हो पा रही।