कोरबा।छत्तीसगढ़ शासन द्वारा मंत्रालय एवं विभागाध्यक्ष कर्मचारियों की दैनिक कार्यालयीन उपस्थिति 50% कर शेष कार्य दिवस वर्क फॉर्म होम किए जाने से मैदानी स्तर पर कार्यरत कर्मचारियों में असंतोष देखी जा रही है।
छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन जिला कोरबा के संयोजक प्यारेलाल चौधरी एवं महासचिव आर के पांडे ने शासन के उक्त आदेश को कर्मचारी हित में अति आवश्यक बताते हुए, कहा कि आधा अधूरा आदेश प्रसारित करना मैदानी कर्मचारियों के साथ-साथ प्रदेश में कार्यरत लाखों शिक्षकों के साथ अन्याय है छत्तीसगढ़ शासन को अपने समस्त अधिकारी कर्मचारियों के साथ एक जैसा व्यवहार करना चाहिए, पूरे प्रदेश में शिक्षक सहित मैदानी कर्मचारी सैकड़ों की संख्या में प्रतिदिन कोरोना संक्रमित हो रहे हैं।छत्तीसगढ़ कर्मचारी.. अधिकारी फेडरेशन जिला कोरबा के संरक्षक केआर डहरिया, कार्यकारी संयोजक जनार्दन उपाध्याय, सहसंयोजक तरुण राठौर, संतोष शुक्ला, राम कपूर कुर्रे, गजानन दुबे ,सचिव केडी पात्रे ,कोषाध्यक्ष विनय सोनवानी, सचिव राजेश राय ,एनके राजवाड़े प्रवक्ता प्रशांत गुप्ता, अनूप सिंह विकासखंड संयोजक राजेंद्र जोशी, एस एस शिव, काशीराम सुमन , विक्रम श्रीवास, आदि ने शासन.. प्रशासन से शिक्षक सहित मैदानी कर्मचारियों के लिए भी 50% उपस्थिति एवं शेष कार्य दिवस वर्क फ्रॉम होम आदेश तत्काल जारी करने हेतु मांग की है।