कोरबा। जनपद पंचायत कोरबा सीईओ के खिलाफ शिकायत कर माहौल बनाने का तो प्रयास किया गया लेकिन शिकायत के असलियत की दूसरे दिन ही हवा निकल गई। शिकायतकर्ता सरपंचो ने एक पत्र मुख्यमंत्री के नाम सौपकर शिकायत को फर्जी करार दिया हैं।
दरअसल मंगलवार को कुछ जनपद सदस्यों ने एक पत्र जारी कर कोरबा जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जीके मिश्रा पर जनपद क्षेत्र के डेढ़ दर्जन सरपंचों एवं जनपद सदस्यों ने प्रताड़ित करने का गंभीर आरोप लगाया था। आरोप में पदस्थापना के बाद से सरपंचों को अकारण ही परेशान करने में लगे हैं। अपने चहेते ठेकेदारों को पंचायत क्षेत्र का निर्माण कार्य दिलवाने के लिए सरपंचों पर दबाव डालकर बाध्य कर रहे हैं। मनमाने ढंग से कमीशनखोरी करने की बात काल्पनिक तरीके से कही गई थी। मामले को पूरा एक दिन भी नही गुजरा था और सरपंचो ने शिकायत को फर्जी करार देते हुए गुमराह कर दस्तखत करने का आरोप लगाया है। दोन्द्रों , सोनपुरी , माखुरपनी एवं बुंदेली के सरपंचो ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा है।