कोरबा । छततीसगढ़ पावर जेनरेशन कम्पनी के बन्द पड़े पॉवर प्लांट के स्क्रेंब को बेचने के लिए निविदा बुलाई हैं। आपको बताते चले कि पर्यावरण प्रदूषण को लेकर पुराना पॉवर प्लांट को बन्द करने का फरमान जारी हुआ था।

लंबे समय से सीएसईबी कोरबा पूर्व संयंत्र की बंद पड़ी 4 इकाईयों के स्क्रैप की नीलामी का टेंडर राज्य विद्युत उत्पादन कंपनी के द्वारा जारी कर दिया गया है। इसके लिए 3 करोड़ रुपये की अर्नेस्ट मनी जारी किए गए टेंडर में उल्लेखित है।
सूत्रों के मुताबिक सीएसईबी पूर्व की 50-50 मेगावाट की इकाइयों से प्रदूषण कारणों से वर्ष 1966, 1967, 1968, की इकाइयों से उत्पादन लंबे अरसे से बंद है। 50 मेगावाट की वर्ष 1976 व 1981 में लगी यूनिट ही वर्तमान में प्रचालन में है। 50-50 मेगावाट की चार इकाइयों के पूरी तरह बंद होने से प्लांट की क्षमता अब 240 मेगावाट हो गई है। बंद पड़ी 4 इकाइयों के स्क्रैप नीलामी का टेंडर मंडल द्वारा जारी कर दिया गया है। इसके लिए 3 करोड़ रुपये की ऑनेस्ट मनी जारी किए गए टेंडर में उल्लेखित है। दूसरी ओर विद्युत विभाग के जानकारों के अनुसार सभी इकाइयों के बंद होने की स्थिति में अधिक क्षमता का नया पावर प्लांट निर्माण किया जाना इसका बेहतर विकल्प हो सकता है क्योंकि नहर, कॉलोनी, सड़क, कोयला खदान, रेलवे का सारा आवश्यक प्लेटफॉर्म/संसाधन मौजूद हंै ही। बस थोड़े अतिरिक्त प्रयास से स्थानीय स्तर पर लोगों को रोजगार उपलब्ध होने के साथ ही बाजार में भी इसका सकारात्मक प्रभाव दिखेगा और विद्युत जरूरतों की कमी को भी पूरा किया जा सकेगा।