रायपुर। रायपुर में ED ने मनीलांडरिंग मामले प्रदेश सरकार की उप सचिव सौम्या चौरसिया को गिरफ्तार कर शुक्रवार शाम को न्यायाधीश अजय सिंह की अदालत में पेश किया। इससे पहले सौम्या को अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया। रूटीन चेकअप के बाद उन्हें कोर्ट ले जाया गया।

अदालत में सौम्या को पेश कर ED ने पूछताछ के लिए वक्त मांगा। ED की तरफ से कहा गया कि कम से कम सप्ताहभर के लिए सौम्या को कस्टडी में रखकर पूछताछ करना चाहते हैं। ED ने दावा किया है कि कोल माइनिंग में अवैध लेन-देन और मनी लॉन्ड्रिंग के सिलसिले में सौम्या के खिलाफ कुछ अहम सबूत मिले हैं।

अदालत से ED ने 10 दिनों की रिमांड मांगी। अफसरों ने कहा पूछताछ में समय लगेगा, बहुत से दस्तावेजों और सबूताें का परीक्षण चल रहा है। इस पर अदालत ने रिमांड की बात कबूल की मगर सिर्फ 4 दिन की रिमांड का आदेश किया है। 4 दिनों तक ED के जांच अफसर पूछताछ करेंगे।

सौम्या से पहले ED की गिरफ्त में कारोबारी सूर्यकांत तिवारी, लक्ष्मीकांत तिवारी और सुनील अग्रवाल आ चुके हैं। IAS समीर विश्नोई को भी पकड़ा गया था। ये चारों फिलहाल इसी केस में रायपुर की जेल में रखे गए हैं। ये सभी 6 दिसंबर तक न्यायिक रिमांड पर भेजे गए हैं। 6 तारीख को इनके मामले में कोर्ट सुनवाई करेगी।