आईपीएस अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) का जन्म 25 अप्रैल 1992 को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के एक छोटे से गांव में हुआ था और उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई सरकारी स्कूल से की है.


2018 में मिली सफलता
यूपीएससी पाठशाला की रिपोर्ट के अनुसार, अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) को साल 2018 में तीसरे प्रयास में सफलता मिली और उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में 203वीं रैंक हासिल की. इसके बाद अंकिता होम कैडर पाने वाली छत्तीसगढ़ की पहली महिला आईपीएस बनी हैं.


ऑपरेशन बस्तर की सौंपी गई जिम्मेदारी
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) को नक्सल प्रभावित बस्तर जिले में नक्सल ऑपरेशन (Naxal Operation) की कमान संभाल रही हैं. इससे पहले वह राजधानी रायपुर के आजाद चौक इलाके में नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी) पद पर पोस्टेड थीं. बता दें कि बस्तर अति नक्सल प्रभावित जिला माना जाता है और वहां नक्सलियों को खत्म करने के लिए छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा ऑपरेशन बस्तर चलाया जा रहा है. अब अंकिता शर्मा पर नक्सलियों के खात्मे की की जिम्मेदारी है.
बचपन से बनना चाहती थीं आईपीएस
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह बचपन से ही आईपीएस बनना चाहती थीं, लेकिन इस विषय में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी और मार्गदर्शन देने के लिए कोई नहीं था. इस कारण उन्हें दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा.
एमबीए के बाद शुरू की यूपीएससी की तैयारी
एमबीए के बाद शुरू की यूपीएससी की तैयारी
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) ने दुर्ग से ग्रेजुएशन करने के बाद एमबीए किया और यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली आ गईं, लेकिन उन्होंने सिर्फ छह महीने तक ही वहां पढ़ाई की और फिर घर वापस आकर सेल्फ स्टडी की.
तैयारी के दौरान हो गई थी शादी
अंकिता (Ankita Sharma) ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि यूपीएससी की तैयारी के दौरान ही उनकी शादी हो गई थी. उनके पति विवेकानंद शुक्ला आर्मी में मेजर है और वर्तमान में मुंबई में तैयात हैं. पति के साथ रहते हुए उन्हें जम्मू-कश्मीर, हैदराबाद, झांसी जैसे शहरों में रहना पड़ा और उनको यूपीएससी की परीक्षा में दो बार असफलता मिली, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और तीसरी बार में परीक्षा पास कीं. वह अपनी उपलब्धि में अपने पति का खास रोल बताती है.
घुड़सवारी और बैडमिंटन का शौक
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) की पहचान एक एक्टिवU अधिकारी के रूप में होती है. उन्हें घुड़सवारी के अलावा बैडमिंटन खेलने का शौक हैं. इंस्टाग्राम पर अक्सर वह घुड़सवाड़ी की फोटो शेयर करती हैं.
गणतंत्र दिवस परेड का किया नेतृत्व
पिछले साल गणतंत्र दिवस पर 26 जनवरी को छत्तीसगढ़ के रायपुर में पुलिस परेड ग्राउंड में ट्रेनी आईपीएस अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) परेड का नेतृत्व किया था. इसके साथ ही वह राज्य के इतिहास में गणतंत्र दिवस परेड की कमान संभालने वाली पहली महिला पुलिस अधकारी बनी थीं.

विधायक से भिड़ गई थीं अंकिता
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) कहती हैं कि महिलाएं किसी से कम नहीं हैं और उन्होंने लोगों की सेवा करने के लिए वर्दी पहनी है. पिछले साल फरवरी में अंकिता नियम कानून को लेकर एक महिला विधायक से भिड़ गई थीं. यह मामला सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हुई थी और लोगों ने अंकिता की जमकर तारीफ की थी.
युवाओं को करवाती हैं तैयारी
अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) को यूपीएससी की तैयारी के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. इसलिए वे अब कोशिश करती हैं कि उन्हें जितनी परेशानी हुई है, अब किसी और को ना हो. इसके लिए वह यूपीएससी की तैयारी कर रहे छात्रों की मदद करती हैं. अंकिता अपने बिजी शेड्यूल से समय निकाल लेती हैं और युवाओं को पढ़ाती है।