जशपुर : जिला के पत्थलगांव थाना क्षेत्र में नाबालिग छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में शहर के युवाओं ने आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की है. युवाओं ने राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा है. कानून में संशोधन कर दुष्कर्म के मामलों में आरोपियों को कड़ी सजा की मांग की है.

दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी देने की मांग
जिला मुख्यालय में शहर के युवाओं ने जिले में हो रहे दुष्कर्म और छेड़छाड़ के बढ़ते प्रकरणों पर नाराजगी जताई है. शहर के युवा वर्ग ने एकजुट होकर कलेक्टर से मुलाकात की. केशर हुसैन ने कहा कि जिले में दुष्कर्म जैसी घटनाएं बढ़ती जा रही है. पत्थलगांव में नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म समाज के लिए शर्मनाक है. इस तरह की घटनाओं की लगातार पुनरावृति हो रही है, लेकिन कठोर कानून के अभाव में आरोपी कुछ दिनों में बाइज्जत बरी हो जाते हैं.

कानून में बदलाव की आवश्यकता

साबी बघेल ने कहा कि पत्थलगांव में दुष्कर्म के मामले में आरोपियों में अपचारी बालक भी शामिल है. अपचारी बालकों के लिए कानून के नरम रुख की वजह से उन्हें कुछ दिनों के लिए बाल सुधार गृह में भेज दिया जाएगा, जिसके बाद वे रिहा हो जाएंगे. कानून की इस कमजोरी का फायदा अपराधी तत्व उठा रहे हैं. उन्होंने कहा कि कानून में व्यापक बदलाव करने की आवश्यकता है. ताकि इस तरह के गंभीर मामलों में आरोपियों को सख्त सजा मिल पाए.

9 आरोपी गिरफ्तार

पत्थलगांव क्षेत्र में नाबालिक छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनमें 5 नाबालिग भी शामिल हैं. इससे पहले बगीचा थाना क्षेत्र में नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आई थी, जिसमें पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. जिले में बढ़ते दुष्कर्म के मामले के आंकड़े चिंताजनक हैं. जिसे लेकर अब युवा वर्ग सामने आया है. युवाओं का कहना है कि कानून में कुछ व्यापक बदलाव के बाद दुष्कर्म के मामलों में आरोपियों को मौत की सजा मिलनी चाहिए.