मुंबई। LOCKDOWN: देश में कोरोना की दूसरी लहर ने कहर बरपाया है। अप्रैल के पहले सप्ताह में देश में पहली बार एक ही दिन में 1 लाख नए कोरोना रोगी संक्रमित हुए है। महज ढाई सप्ताह में यह आंकड़ा 3 लाख को पार कर गया है। पिछले 6 दिनों से देश में हर दिन 3 लाख से अधिक कोरोना रोगी मिल रहे हैं।

इसमें चूंकि महाराष्ट्र में सबसे अधिक मरीज हैं, इसलिए राज्य सरकार ने सख्त प्रतिबंधों का हवाला देते हुए लॉकडाउन लगा दिया था। 1 मई सुबह 7 बजे तक लाकडाउन (LOCKDOWN) लागू किया गया था। हालांकि अब लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने इसे स्पष्ट कर दिया है।
राज्य में कोरोना की स्थिति गंभीर हो गई है और ऑक्सीजन बेड, रेमेडिविविर इंजेक्शन की भारी कमी है। चिकित्सा व्यवस्था पर बहुत तनाव है और कई स्थानों पर कोविड केंद्र स्थापित करने के लिए नर्सिंग स्टाफ उपलब्ध नहीं है। इसलिए राज्य में 1 मई के बाद भी लॉकडाउन बढऩे की उम्मीद थी। आज हुई कैबिनेट बैठक में लॉकडाउन को और आगे बढ़ाने का फैसला किया गया है।

हालांकि इस लॉकडाउन को कितने दिनों तक बढ़ाया जाएगा इसका विवरण जल्द ही घोषित किया जाएगा। उम्मीद यही लगाई जा रही है कि कि इस बार लॉकडाउन 15 दिनों के लिए आगे बढ़ाया जाना चाहिए। ऐसा लगता है कि राज्य में 15 मई तक फिर से सख्त प्रतिबंध लगाए जाएंगे।

संकेत जयंत पाटिल ने दिया
इस बीच, मंत्री जयंत पाटिल से इस पृष्ठभूमि पर सवाल किया गया। जवाब में उन्होंने राज्य की वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी दी। राज्य के सभी जिलों का स्थानीय स्तर पर सर्वेक्षण किया जाएगा। पाटिल को समझाया गया कि ऑक्सीजन, बेड और वेंटिलेटर की स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया जाएगा।