OMG! पीने के शौकीन …एक दिन में पी रहे… एक करोड़ 20 लाख की शराब…

0
257

बिलासपुर।मुझे पीने का शौक नहीं, पीता हूं गम भुलाने को”… ‘कुली” फिल्म के इस गाने की तर्ज पर बिलासपुर के मदिरा प्रेमी मयखाने में जाम छलकाने एक दिन में 1 करोड़ 20 लाख रुपये फूंक रहे है।

शराब की बिक्री को लेकर बिलासपुर तीसरे नंबर पर है. यहां मदिरा प्रेमी एक दिन में 1 करोड़ 20 लाख की शराब पी जाते हैं. इसके पीछे दो कारण हैं, पहला कारण कि लोगों का किन्हीं कारणों से शराब की ओर रुझान बढ़ा है. दूसरा कारण है कि आबकारी विभाग के अधिकारी महुआ शराब की बिक्री पर लगाम लगाने में सफल रहे हैं. इससे लोगों को कच्ची शराब की जगह दुकानों से खरीदकर शराब पीनी पड़ रही है.
शराब के शौकीन लोग शराब की दुकानों में शराब खरीदने पहुंच रहे हैं, जहां पर उनको सभी ब्रांड की शराब मिल जाती हैं. हालांकि विभागीय अधिकारी यह मानते हैं कि लॉकडाउन के दौरान बिक्री में थोड़ी कमी जरूर आई है, लेकिन इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता. बिलासपुर को न्यायधानी कहा जाता है, और यहां शराब की बिक्री ने अपना ही रिकॉर्ड बना रखा है. शहर में हर रोज तकरीबन 1 करोड़ 20 लाख रुपए की शराब बेची जाती है.
मतलब महीने में तकरीबन 36 करोड़ के आसपास शराब बेची जाती है. शराब के शौकीनों की संख्या का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि यहां इतनी बड़ी मात्रा में शराब की खपत है. विभाग इसे भी अपनी उपलब्धि के रूप में देखता है. बिलासपुर आबकारी विभाग ने अवैध शराब की बिक्री के खिलाफ मुहिम चला रखी है. इन दिनों शहर और उसके आसपास के क्षेत्रों में महुआ शराब की बिक्री को तकरीबन बंद करा दिया गया है, जिससे सीधे विभाग के राजस्व में इजाफा हो रहा है. विभागीय अधिकारी नीतू नोतानी ठाकुर ने बताया कि बिलासपुर शहर राजधानी रायपुर और दुर्ग शहर के बाद शराब की बिक्री में लीडिंग पोजीशन पर है.
आबकारी विभाग का कहना है कि हमारे विभाग के अधिकारी कच्ची शराब पर नकेल सकते हैं. इसलिए लोग शराब की दुकानों से खरीदकर शराब पी रहे हैं. इससे विभाग की आय भी बढ़ती है. दुकानों में ग्राहक कई तरह के ब्रांडों की मांग करते हैं, जिसको ध्यान में रखकर उनको शराब उपलब्ध कराई जाती है।