बीजिंग/ए.। कोरोना के मामले में कहीं चीन ने गड़बड़ तो नहीं की, यह सवाल फिर से उठने लगा है। दरअसल चीन ने डब्ल्यूएचओ की टीम को वुहान के शुरुआती काविड केस का डाट देने से इनकार कर दिया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार डब्ल्यूएचओ (WHO Visit to China) की टीम ने चीन से कोविड के शुरुआती 174 मरीजों का रा डाटा मांगा था, जिसे चीन ने देने से इनकार कर दिया।
उसने इन मरीजों के मामले का डब्ल्यूएचओ को सिर्फ सार यानी कि समरी दिया है। ये जानकारी ऑस्ट्रेलिया के इन्फक्शियस डिसीज एक्सपर्ट डोमिनिक ड्वेयर ने दी है, जो हाल में चीन जाकर स्थिति का पता लगाने वाली टीम में शामिल थे।
ड्वेयर ने बताया कि इस रा डाटा को लाइन लिसनिंग्स कहा जाता है। इसमें मरीजों से पूछे जाने वाले सवाल व उनकी प्रतिक्रियाएं इन प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण शामिल होता हैं। किसी भी बीमारी की शुरुआत की पड़ताल करने के लिए एक मानक प्रक्रिया में इसकी जरूरत होती है।
उन्होंने कहा कि रा डाटा प्राप्त करना इसलिए जरूरी है क्योंकि शुरुआती 174 मरीजों में से हुनान मार्केट के संपर्क में इसके सिर्फ आधे आए थे। हुनान मार्केट वुहान में सी फूड का होल सेल बाजार है, हां कोरोना वायरस को शुरुआत में डिटेक्ट किया गया था।
इसलिए हम रा डाटा देने का बार-बार आग्रह कर रहे थे। उन्होंने यह भी कहा कि यह डाटा चीन द्वारा क्यों नहीं दिया गया इसके बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता। इसके बारे में कोई सिर्फ कयास ही लगा सकता है। हालांकि डॉमिनिक ने यह भी कहा इस साल चीन के द्वारा पिछले साल की तुलना में काफी डाटा दिया गया है। डब्ल्यूएचओ की टीम ने अपने दौरे में जो पाया उसकी समरी रिपोर्ट अगले हफ्ते जारी की जाएगी।