Sunday, June 23, 2024
Homeदेशसपा के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर ने अखिलेश को पुनः राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने...

सपा के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर ने अखिलेश को पुनः राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर दी बधाई… राष्ट्रीय सम्मेलन में भरी हुंकार , कहा भाजपा की बांटो और राज करो की नीति को…

यूपी। सपा के छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अहमद ने अखिलेश यादव को सपा के रास्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर बधाई दी हैं। उन्होंने कहा है कि अखिलेश यादव के नेतृत्व में फिर से यूपी में सायकल का राज होगा। रास्ट्रीय सम्मेलन में सभा को संबोधित कर अखिलेश ने हुंकार भरते हुए कहा कि भाजपा की बांटो और राज करो की नीति को सफल नहीं होने देंगे।


बता दें कि समाजवादी पार्टी के सम्मेलन में पूरे देश के हजारों समाजवादियों ने संकल्प लिया है कि भाजपा ने लोकतंत्र को आघात पहुंचाया है उसकी भरपाई के लिए भाजपा का उत्तर प्रदेश से सफाया करना ही होगा।
भाजपा की झूठ-फरेब की राजनीति के दिन अब बीत चले हैं, उत्तर प्रदेश में भाजपा को जवाब समाजवादी पार्टी से ही मिलेगा और सन् 2024 के लोकसभा चुनाव में परिवर्तन की नई लहर आएगी। लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए डॉ0 लोहिया और डॉ0 अम्बेडकर की विचारधारा को मानने वाले आगे आकर भाजपा की बांटो और राज करो की नीति को सफल नहीं होने देंगे।

 


समाजवादी पार्टी का राज्य सम्मेलन और राष्ट्रीय सम्मेलन लखनऊ के रमाबाई अम्बेडकर मैदान में क्रमशः 28 और 29 सितम्बर 2022 को सम्पन्न हुआ। यह बात सामने आई कि चुनाव आयोग और भाजपा सरकार दोनों की मिलीभगत और साजिशों से प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार छीनी गई है।
यह दिन के उजाले की तरह साफ है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के विकल्प के रूप में जनता सिर्फ समाजवादी पार्टी को ही देख रही है और उस पर भरोसा करती है। अन्य दल उससे बहुत पीछे दिखाई देते हैं। समाजवादी पार्टी पर जनता का इसलिए भी भरोसा है कि अन्य दलों के मुकाबले बेदाग, शालीन और निश्चल छवि के साथ श्री अखिलेश यादव का विराट व्यक्तित्व सबसे ऊपर है। समाजवादी पार्टी के दसियों हजार डेलीगेट्स और हजारों की संख्या में मौजूद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने तीसरी बार पुनः अखिलेश यादव को निर्विरोध अध्यक्ष चुनकर जनता के भरोसे को और मजबूत किया है।
सर्वप्रथम श्री अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय ध्वज फहराकर और राष्ट्रीय गान के बाद सम्मेलन का शुभारभ किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने नए संकल्प के साथ चलने का आह्वान कर दिया है। भाजपा के झूठ का जमकर अब पर्दाफाश होगा। भाजपा सरकार के अन्याय और विद्वेषपूर्ण कार्यवाहियों का डटकर प्रतिरोध होगा। उन्होंने समाजवादियों और अम्बेडकरवादियों से कहा कि संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए समाजवादी पार्टी को पूरी ताकत और अधिकार दे।
अखिलेश यादव ने भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए राष्ट्रीय और राज्य सम्मेलन के मंच पर हर वर्ग के लोगों को प्रतिनिधित्व दिया। मंचासीन नेताओं ने भी कहा कि सन् 2024 में भाजपा को उत्तर प्रदेश से भगाना है। भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए समाजवादी पार्टी संघर्ष के रास्ते पर चलेगी। भाजपा सरकार के जुल्म और तानाशाही का नये तेवर और हौसले के साथ डटकर सामना करना है।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय और राज्य सम्मेलन में एकत्र नेताओं और कार्यकर्ताओं को जहां नए संकल्प के साथ जोड़ा गया वहीं संगठन को बूथस्तर तक मजबूती के लिए सदस्यता अभियान को और तेज करने पर भी बल दिया गया। अगले अधिवेशन तक समाजवादी पार्टी को राष्ट्रीय दल की मान्यता मिल सके इसके लिए देशव्यापी अभियान चलेगा।
श्री अखिलेश यादव ने संकेत दिया है कि भाजपा की चुनावी धांधलियों का मुकाबला इस बार पूरी दृढ़ता से किया जाएगा। भाजपा की धांधलीगर्दी चलने नहीं दी जाएगी। चुनाव आयोग को भी अब अपनी साख बचानी होगी क्योंकि पिछले चुनावों में उसकी भूमिका और पारदर्शिता संदिग्ध रही है। चुनाव आयोग अपने संवैधानिक दायित्वों का निर्वहन करने में सतर्क नहीं रहा है।
समाजवादी पार्टी ने जनता की अदालत में यह तथ्य ला दिया है कि भाजपा लोकतांत्रिक संस्थाओं के प्रति उपेक्षा का भाव रखती है। संविधान उसके लिए महज एक किताब है। संवैधानिक संस्थानों की मजबूती उसे पसंद नहीं। वह उन्हें लगातार कमजोर करती जा रही है। बुलडोजर संस्कृति भाजपा की पहचान हो गई है। लोकतंत्र कानून से चलता है बुलडोजर से नहीं। अल्पसंख्यक वर्ग और पिछड़े, दलित, शोषित समाज के लोगों के प्रति भाजपा का रवैया संवेदनहीन है।
समाजवादी पार्टी ने भाजपा को चुनौती देते हुए पूछा कि वह अपने अब तक के कार्यकाल में पांच जनहित की योजनाएं और काम ही गिना दे? भाजपा की केन्द्र सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी लागू कर देश की अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है। भाजपा सरकार में डालर के मुकाबले रूपया बहुत गिर गया है। महंगाई, भ्रष्टाचार, अपहरण, लूट, डकैती, हत्या, बलात्कार चरम पर है। अपराधी सरकार के साथ साठगांठ किये हुए है और पीड़ित को न्याय नहीं मिल रहा है। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में पुलिस हिरासत में हुई मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।
समाजवादी पार्टी के राजनैतिक-आर्थिक प्रस्तावों में भाजपा सरकार की राजनैतिक और आर्थिक विफलताओं के साथ झूठ का आंकडा़वार पर्दाफाश भी किया गया है। साथ ही यह भी बता दिया गया है कि भाजपा की सभी नीतियां पूंजीघरानों की पोषक है, बड़े उद्यमी बैंकों का धन लूट रहे है तब भी भाजपा सरकार उनको छूट पर छूट देते जा रही है। समाज में नफरत की हवा बह रही है और सद्भाव-सौहार्द मिट रहा हैं।
सम्मेलन की एक राय एक दिशा यही थी कि भारतीय संविधान को खतरे के साये से बाहर निकाल कर और भाजपा सरकार को 2024 में सत्ता से हटाकर ही बंधुत्व, समानता और स्वतंत्रता बहाल करनी है।
अजीब बात है कि सम्मेलन समाजवादी पार्टी का हो रहा था पर परेशानी सबसे ज्यादा भाजपा को हो रही थी। इसके कई मंत्री और नेता लगातार समाजवादी पार्टी पर अनर्गल आरोप लगाते रहे। उनकी टिप्पणियां लोकतंत्र विरोधी है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments