Saturday, March 2, 2024
HomeBreakingBreaking : हिमांशु गुप्ता के माथे लगेगा डीजीपी का तिलक..! ...दास के...

Breaking : हिमांशु गुप्ता के माथे लगेगा डीजीपी का तिलक..! …दास के सिर फिसला ताज…

रायपुर। प्रदेश वापसी की तैयारी कर रहे आईपीएस स्वागत दास के सिर से डीजीपी का ताज फिसल चुका है। कैडर मिलने के बाद भी कभी पोस्टिंग नहीं लेने वाले दास इसी आस पर छत्तीसगढ़ आए, सरकार से गुप्त मीटिंग भी की पर शायद बात नहीं बनी। अब सरकार कुछ चुनिंदा नामों पर मंथन कर रही है। पर सूत्रों की सुनें, तो छत्तीसगढ़ के नए कप्तान का रुतबा हासिल करने की रेस में सबसे आगे निकलते हुए कोरबा एसपी रहे आईपीएस हिमांशु गुप्ता डीजीपी की कुर्सी के तगड़े दावेदार माने जा रहे हैं।

आईपीएस स्‍वागत दास छत्‍तीसगढ़ कैडर के 1987 बैच के अधिकारी हैं। वे अविभाजित मध्‍य प्रदेश के दौर में ही केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चले गए थे। छत्‍तीसगढ़ राज्‍य बनने के बाद उन्‍हें छत्‍तीसगढ़ कैडर मिला, लेकिन वे कभी छत्‍तीसगढ़ नहीं आए। दास अविभाजित मध्‍य प्रदेश में शिवपुरी जिला के एसपी रहे हैं। केंद्रीय खुफिया एजेंसी आईबी में लंबे समय तक पदस्‍थ रहे आईपीएस दास को 23 जून 2022 को गृह मंत्रालय में विशेष सचिव (आंतरिक सुरक्षा) नियुक्त किया गया।

प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही उनके छत्तीसगढ़ वापसी और डीजीपी पद संभालने की चर्चा की जा रही थी। सूत्रों की मानें तो आईपीएस स्वागत दास छत्तीसगढ़ आए भी और सरकार के साथ उनकी भेंट-मुलाकात भी हुई लेकिन बंद कमरे में की गई चर्चा अब एक राज बनकर रह गई है। खैर बात आई गई हो है और अब डिपार्टमेंट के गलियारों में उड़ रही हवा का रुख हिमांशु गुप्ता की ओर इशारा कर रही है।

सूत्रों की माने तो जल्द ही उनकी डीजीपी के पद ताजपोशी भी हो सकती है। सरकार के सबसे पसंदीदा अधिकारी राजेश मिश्रा हैं, लेकिन आज वे रिटायर हो रहे हैं। ऐसे में उन्हें डीजीपी तो बनाया नहीं जा सकता। सो अब एक बार फिर डीजीपी के लिए एक बार फिर चर्चा का दौर शुरू हो गया है। इनमें मूलतः राजस्थान के रहने वाले 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी हिमांशु गुप्ता का नाम सबसे आगे है।

महकमे के इन तीन कद्दावर नामों पर भी विचार-मंथन

आईपीएस गुप्ता के अलावा नए डीजीपी की ताजपोशी के मिशन में तीन और चुनिंदा नामों पर भी मंथन हो रहा है। इनमें अरुण देव गौतम और एसआरपी कल्लूरी जैसे माहिर पुलिस अफसरों के नाम मजबूती से सामने आ रहे हैं।सूत्र बताते हैं कि अरुण देव गौतम और पवन देव के साथ एसआरपी कल्लूरी भी डीजीपी पद की रेस शामिल हैं, लेकिन सत्ता और संगठन के साथ सबसे बढ़िया तालमेल हिमांशु गुप्ता का होने की बात कही जा रही है। लिहाजा उनका डीजीपी बनना तय माना जा रहा है।

आज रिटायर हो रहे मिश्रा बन सकते है क्रेड़ा के चेयरमैन

पुलिस डिपार्टमेंट के चाणक्यों की माने तो आज रिटायर्ड हो रहे 1990 बैच के आईपीएस अफसर राजेश मिश्रा को सेवानिवृत्त के बाद उन्हें चेयरमैन बनाया जा सकता है। सूत्रों की माने तो सत्ता और संगठन के पसंदीदा अफसर माने जाने वाले राजेश मिश्रा क्रेडा के चेयरमैन या EOW के ओएसडी बनाने की स्क्रिप्ट लिखी जा रही है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments