कोरबा। नगर पालिका निगम महापौर का स्वच्छता अभियान शुरु होने से पहले ही विवादों में घिर गया है। दरअसल स्वच्छता अभियान की शुरुआत करते ही वाहवाही लूटने महापौर जी ये कह बैठे कि उन्होंने वार्ड क्रमांक 1 रामसागर पारा में घंटों खुद सफाई की। महापौर का ये बयान उन्हीं पर भारी पड़ गया। बैठे ठाले विपक्ष को मौका जो ​दिया।

महापौर के स्वच्छता अभियान पर सवाल दागते हुए पूर्व महापौर जोगेश लांबा ने उनसे पूछा,अब आपके कथन से ऐसा लगता है कि महापौर अपने कार्यकाल में जो स्वच्छता पुरस्कार प्राप्त है किया था वह कुछ तिगड़म व सरकार से प्राप्त किया था? या सफाई के नाम पर पैसों की बंदरबांट हुई?

पूर्व महापौर जोगेश लांबा ने वर्तमान महापौर से पूछा है कि आप का 2 वर्ष का कार्यकाल पूर्ण हो चुका है। आज जनता जानना चाहती है कि नगर निगम को लेकर आप की प्राथमिकताएं क्या हैं? सोच क्या हैं ? किस दिशा में आप काम करना चाहते हैं ?..यह अभी तक स्पष्ट नहीं है।

लांबा ने कहा कि आप के 2 वर्ष के कार्यकाल में नगर विकास तो बहुत दूर की बात है आपका तालमेल निगम अधिकारियों से भी ठीक नहीं हैं। इन 2 वर्षों में 4 आयुक्त बदल गए अभी 3 वर्ष शेष बाकी है आप की निष्क्रियता और विफलता से कोरबा नगर निगम की साख पूरे प्रदेश में धूमिल हो रही है।

लांबा ने कहा, अभी भी समय है आप महापौर पद का जो दायित्व है जो कर्तव्य है उसको पूरी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए आम जनों की जो निगम की मूलभूत समस्या नगर बस्तियों का सफाई स्वच्छ पानी का पर्याप्त वितरण मुख्य सड़क व बस्तियों की लाइटों का समय पर चलना बंद होना जैसी अन्य समस्याओं पर ज्यादा केंद्रित करें झूठी व सस्ती लोकप्रियता से बचें।

  • RO12618-2