Monday, July 15, 2024
HomeकोरबाKorba : 45 डिग्री की गर्मी में भी ड्यूटी की फिक्र, चिलचिलाती...

Korba : 45 डिग्री की गर्मी में भी ड्यूटी की फिक्र, चिलचिलाती धूप में पानी की तकलीफ दूर करने गांव-गांव पहुंच रहे हैंडपंप मैकेनिक

कोरबा। इस भीषण गर्मी में घर निकले किसी राहगीर की नजर दो ही चीजों की तलाश में होती है। एक तो तपती धूप से बचने घना छांव और सूखते गले की राहत के लिए नलकूप। खासकर ग्रामीण इलाकों में प्यास बुझाने हैंडपंप ही शुद्ध-शीतल जल का सबसे प्रमुख माध्यम होता है। ऐसे में जब कभी किसी हैंडपंप का मुंह सूखने की सूचना मिलती है, पीएचई विभाग के हैंडपंप मैकेनिक चिलचिलाती धूप और गर्मी की फिक्र छोड़कर बिना वक्त गंवाए उस गांव की ओर दौड़ पड़ते हैं। 45 डिग्री सेल्सियस तापमान में औजार थामें पसीना बहाते हैं और हैंडपंप की खराबी दूर कर ग्रामीणों के चेहरे की मुस्कान लौटा जाते हैं।

 

 

Oplus_131072

जिल्गा पंचायत में हैडपम्प सुधार करते मैकेनिक

पीएचई ईई अनिल बच्चन ने खासकर गर्मी के मौसम में शहर से लेकर जिले के अंतिम छोर पर बसे गांवों तक पानी की जुगत सुनिश्चित करने का निर्देश दे रखा है। किसी भी स्थिति में लोगों को पीने के पानी की दिक्कत न हो और कोई परेशानी आए भी तो पीएचई विभाग द्वारा उसके त्वरित निराकरण के इंतजाम भी किए जा रहे हैं। ऐसी ही दिक्कत आने पर इन दिनों 45 डिग्री तापमान की कड़ी धूप में पीएचई के हैंडपंप मैकेनिक मरम्मत के लिए तत्काल पहुंच जाते हैं। इस मौसम में जब लोग घर से निकलने से कतरा रहे हैं तब ये कर्मचारी जज्बा दिखाते हुए गर्मी में काम कर रहे और अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।  आम जनता को पेयजल के लिए दिक्कत न हो इसके लिए पीएचई के हैण्डपम्प मैकेनिकों ने चिलचिलाती धूप में जिले के विभिन्न गांवों में मरम्मत का कार्य की कमान संभाल रखी है। कलेक्टर अजीत वसंत के निर्देश पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की टीम लगातार ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की उपलब्धता के लिए कार्य कर रही है। इसी कड़ी में ग्राम पंचायत जिल्गा से हैण्डपम्प खराब होने की सूचना के तुरंत बाद मेकेनिक गांव पहुंच गए। उन्होंने कड़ी धूप की परवाह किए बिना कार्य शुरू कर दिया। औजार थामकर खराबी ढूंढने में जुट गए और कुछ घंटों में हैण्डपम्प के मरम्मत का कार्य पूरा कर दिया।

जल अनमोल है, कल के लिए इसकी बचत में सहभागी बनें : अजीत वसंत

गर्मी के मौसम में तापमान बढ़ते ही पानी की खपत और मांग भी बढ़ जाती है। कई हैण्डपम्प का जल स्तर नीच चले जाता है। कलेक्टर अजीत वसंत ने जनसामान्य से अपील की है कि जल अमूल्य है। जल ही जीवन है इसलिए जल संरक्षण के उपायों को अपनाने की जरूरत है। नलों में टोटियों का प्रयोग करें, अपने गांव में जल संरक्षण के लिए सोख्ता गड्‌ढा, रेन वाटर हार्वेस्टिंग जैसे उपाय करेंगे एवं जल को व्यर्थ बहने से रोकेंगे। जल संरक्षण की की दिशा में काम किया जाएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments