Monday, April 22, 2024
Homeदेशकुत्ते भौंकते हैं, मकड़ी जाला तोड़ देती है ... सूर्य ग्रहण में...

कुत्ते भौंकते हैं, मकड़ी जाला तोड़ देती है … सूर्य ग्रहण में आखिर बेचैन क्यों हो जाते हैं जानवर?

दिल्ली: आज 4 घंटे के लिए सूर्य ग्रहण (Surya Grahan Effects) लगा है। पहले से ही जानकारों ने बता दिया था कि यह पूरे भारत में देखा जा सकेगा। लोग इस दौरान कई तरह के नियमों का पालन करते हैं। खान-पान और विशेष रूप से गर्भवती माताओं के लिए नियम बताए जाते हैं। इंसानों के बारे में तो सभी जानते हैं पर ग्रहण के समय जानवरों का क्या हाल होता है? वे इस दौरान कैसा बर्ताव करते हैं? आज ‘जंगल न्यूज’ (Jungle News) में इसी के बारे में बात करेंगे। दरअसल, ज्यादातर जानवरों के लिए दिन की शुरुआत से लेकर देर रात तक सभी काम रोशनी और अंधेरे से तय होते हैं। दिन की लंबाई से ही जानवर तय करते हैं कि उन्हें भोजन के लिए कब तक घूमना है, कब सोना है और कब दूसरी जगह चल देना है। इतना ही नहीं, जानवरों के सेक्स का समय भी दिन-रात के चक्र से ही निर्धारित होता है। सूरज की चाल और चांद के आकार से भी जानवरों का रवैया बदलता है।

सेक्स टाइम भी…

28 दिनों में चांद के घटने-बढ़ने की रफ्तार को जानवर भी समझते हैं और वे इसके हिसाब से ही प्रजनन का टाइम चुनते हैं। कई जीव पूर्णिमा के दिन अंडे या बच्चों को जन्म देते हैं। लेकिन जब सूरज या चांद पर ग्रहण पड़ता है तो जानवरों का जीवन कैसे चलता है? कम लोगों को ही जानवरों की मनोदशा के बारे में पता होगा।

सूर्य ग्रहण में क्या होता है?

सूर्य ग्रहण की बात करें तो ब्रह्मांड की घटनाओं में इसका सबसे ज्यादा असर जानवरों पर होता है। दिन में सक्रिय रहने वाले जानवर हैरान रह जाते हैं, वे अपने रात के ठिकाने की ओर जाने लगते हैं। वहीं, रात में सक्रिय रहने वाले जानवरों को लगता है कि वे शायद ज्यादा सो गए। वास्तव में जब सूर्य और पृथ्वी के बीच में चंद्रमा आ जाता है यानी चांद के पीछे सूर्य कुछ समय के लिए छिप जाता है तो सूर्य ग्रहण होता है। चांद के आगे आने से सूर्य की रोशनी पृथ्वी पर पहुंच नहीं पाती है और कुछ देर के लिए जानवरों समेत सभी को अंधेरा दिखाई देने लगता है।

मकड़ी की कुछ प्रजातियां सूर्य ग्रहण लगने पर अपने जाले को तोड़ना शुरू कर देती हैं जबकि आम दिनों में वे दिन ढलने के समय ऐसा करती हैं। हालांकि जैसे ही ग्रहण की काली छाया हटती है वे फिर से इसे बनाने में लग जाती हैं। कुछ इसी तरह से मछलियों और चिड़ियों के लिए हैरान करने वाली स्थिति बन जाती है। दिन के समय ऐक्टिव रहने वाली मछलियां और चिड़िया ग्रहण के समय रात में आराम करने वाले अपने ठिकानों की तरफ बढ़ जाती हैं। इसी तरह रात में सक्रिय रहने वाले जीव अचानक से बाहर निकल आते हैं, वे अचानक अंधेरा छाने से कन्फ्यूज से हो जाते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments