Friday, February 23, 2024
Homeदेशदक्षिण कोरियाई तकनीक पर आधारित एक मात्र संयंत्र है आदाणी पावर, जहां...

दक्षिण कोरियाई तकनीक पर आधारित एक मात्र संयंत्र है आदाणी पावर, जहां आधुनिक उपकरणों के जरिए प्रदूषण नियंत्रण के कारगर इंतजाम

0 प्रदूषण नियंत्रण के लिए आधुनिक इलेक्ट्रो स्टेटिक प्रिसेपिटेटर उपकरणों से परिपूर्ण संयंत्र है रायखेड़ा स्थित अदाणी पॉवर लिमिटेड, पर्यावरण के संरक्षण के लिए कई पुरस्कारों से भी नवाजा गया।

रायपुर। प्रदेश व देश की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने की दिशा में अग्रणी भूमिका निभाने के साथ-साथ अदाणी पॉवर लिमिटेड क्षेत्र के प्रति सामाजिक एवं पर्यावरणीय उत्तरदायित्व के तहत नीतिगत जिम्मेदारियों में भी समर्पित होकर योगदान दे रहा है। जन कल्याण, शिक्षा, अधोसंरचना विकास व बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित करने अपनी भूमिका सुनिश्चित कर रहा है। विशेषकर पर्यावरण संरक्षण पर जोर देते हुए ग्राम रायखेड़ा स्थित अदाणी पावर लिमिटेड के संयंत्र में प्रदूषण नियंत्रण के लिए दक्षिण कोरियाई तकनीक पर आधारित अत्याधुनिक इलेक्ट्रो स्टेटिक प्रिसेपिटेटर उपकरण स्थापित है, जिसकी मदद से विद्युत उत्पादन के दौरान उत्पन्न होने वाली गैसों व एश को फिल्टर कर पौने 300 मीटर ऊंची चिमनियों से छोड़ा जाता है, ताकि आस-पास के वातावरण में उनका असर न हो।

रायपुर जिले के ग्राम रायखेड़ा में स्थित अदाणी पावर लिमिटेड का संयंत्र प्रदूषण नियंत्रण के निर्धारित पैमानों पर खरा उतरतते हुए आधुनिक उपकरणों से परिपूर्ण है। पर्यावरण को शुद्ध रखने के पहले लक्ष्य के प्रति सजगता दिखाते हुए यह एक मात्र ऐसा आधुनिक संयंत्र है, जहां दक्षिण कोरियाई तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। अदाणी समूह द्वारा वर्ष 2019 में इस प्लांट को जीएमआर छत्तीसगढ़ एनर्जी लिमिटेड से अधिग्रहीत किया गया था। 1370 (685गुणा2) मेगावॉट का यह तापीय विद्युत उत्पादन संयत्र अपने प्रदूषण नियंत्रण उपकरण इलेक्ट्रो स्टेटिक प्रिसेपिटेटर (ईएसपी) के द्वारा संयंत्र में बिजली उत्पादन के दौरान उत्पन्न होने वाली गैसों तथा फ्लाई ऐश को फिल्टर करता है। फिल्टर किए हुए इस धुएं को 275 मीटर ऊंची चिमनी से इतनी ही ऊंचाई पर खुले आसमान में छोड़ा जाता है, जिससे आसपास के वातावरण को शुद्ध और स्वच्छ बनाए रखा जा सकता है।
इसके अलावा इस संयंत्र को पर्यावरण के संरक्षण के लिए कई पुरस्कारों से भी नवाजा गया है। जिनमें इस साल मुख्य स्तर पर सीईई पर्यावरण पुरस्कार 2023 है जो कि राष्ट्रीय स्तर की एजेंसी काउंसिल आॅफ एनवायरो एक्सीलेंस (सीईई) द्वारा जमीनी स्तर पर मॉनिटरिंग के पश्चात ही उपलब्ध कराया जाता है। उपरोक्त पुरुस्कार अदाणी ने दो श्रेणियां प्राप्त किया है। सर्वोत्तम पर्यावरण उत्कृष्ट इकाई, फ्लाई ऐश उपयोग में उत्कृष्टता और तो और अदाणी पॉवर लिमिटेड का यह प्लांट सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त प्लांट है जिसे राष्ट्रीय एजेंसी भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है। आईएसओ 9001-2015, 14001-2015 के प्रमाण पत्र से प्रमाणित यह प्लांट अपने संयंत्र के साथ आसपास के ग्रामों में अपने सामाजिक सरकारों के तहत चलाए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए कई तरह के प्रदूषण नियंत्रण और संरक्षण की गतिविधियां संचालित करता है। जिनमें मुख्य तौर पर वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम, पर्यावरण मित्र इत्यादि शामिल है। अदाणी पॉवर लिमिटेड की इन सभी योजनाओं से स्थानीय ग्रामीण तो संतुष्ट हैं ही इसके साथ जिला प्रशासन भी इनके द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जनउपयोगी योजनाओं की प्रशंसा करता है।

सीएचसी में डेढ़ करोड़ के ओ-2 प्लांट, आत्मानंद स्कूल भवन के लिए 1.70 करोड़ की आर्थिक मदद

दर असल अदाणी पॉवर लिमिटेड, रायखेड़ा एक जिम्मेदार कॉरपोरेट होने के नाते अदाणी फाउंडेशन के द्वारा क्षेत्र के आसपास के नागरिकों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा, स्वास्थ्य, आजीविका संवर्धन तथा अधोसंरचना विकास के कई कार्यक्रम संचालित करता है। जिनमें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के लिए मोबाइल मेडीकल इकाई से गांव गांव में नि:शुल्क ईलाज और दवाइयां दी जाती है। साथ ही कोविड महामारी के दौरान तिल्दा और खरोरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रुपए 1.50 करोड़ की लागत से दो आॅक्सीजन प्लांट भी स्थापित कराया है। यही नहीं ग्राम रायखेड़ा में ही छत्तीसगढ़ सरकार की स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल भवन के लिए रुपए 1.70 करोड़ की आर्थिक मदद भी उपल्ब्ध करा रहा है। जबकि पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरुकता अभियान और हर घर वृक्ष इत्यादि समय समय पर अयोजित करता है। वहीं क्षेत्र के युवाओं और बच्चों को नवोदय कोचिंग और प्रयास कोचिंग के माध्यम से अच्छी शिक्षा के लिए प्रेरित करता रहता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments