कोंडागांव। विद्यालय को शिक्षा का मंदिर कहा जाता है। परिजन अपने बच्चों को बिना किसी डर के यहां इसलिए भेजते हैं क्योंकि उनके बच्चे घर के बाद अगर कहीं सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं तो वो है विद्यालय। लेकिन जब विद्यालय भी असुरक्षित हो जाए तो ऐसे में परिजनों को चिंतित होना ही चाहिए। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि जिले में एक विद्यालय के प्रिंसिपल को छत्राओं से छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार किया गया है।

विकास खंड शिक्षा अधिकारी कोंडागांव द्वारा लिखित आवेदन दिया गया जिसमें प्रधान अध्यापक हन्नु राम बघेल के द्वारा नाबालिक छात्राओं को गलत इरादे से शरीर को छूकर छेड़खानी करने की बात कही गई। आरोपी प्रिंसिपल छात्राओं को गलत तरीके से छूता था जिससे पीड़िता को खराब लगा और इस बात को अपने घर जाकर लड़की ने घर वालों को बताया।

इस संबंध में शिक्षा अधिकारी द्वारा जांच किया गया। जांच के बाद थाना मर्दापाल में आरोपी हन्नू राम के खिलाफ लिखित आवेदन दिया गया जिसमें आरोपी के द्वारा अपराध करना पाए जाने से थाना मर्दापाल में आरोपी के खिलाफ धारा 354 ए 1 भादवि. 12 पास्को एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया गया ।

नाबालिग से छेड़छाड़ की घटना को गंभीरता से लेते हुए कोंडागांव पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल द्वारा आरोपी को तत्काल गिरफ्तार करने के आदेश से आरोपी हन्नु राम बघेल निवासी राणापाल को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया ।