Saturday, April 13, 2024
HomeUncategorizedEk Anokhi Holi : दोस्तों ने खेली शव के साथ होली…जानें ऐसा...

Ek Anokhi Holi : दोस्तों ने खेली शव के साथ होली…जानें ऐसा क्यों किया…?

रायपुर। Ek Anokhi Holi : तेरे जैसा यार कहां…याद करोगे दुनिया…तेरा-मेरा याराना…गीत से शुरू करते हुए एक मृत देह के साथ रंग गुलाल खेलते हुए उन्हें अंतिम विदाई दी जाती है। किसी शव की ऐसी विदाई पार्टी न तो कभी सुनी और न ही देखी होगी। राजधानी रायपुर में दोस्तों ने अपने ही एक दोस्त की मौत के बाद उन्हें अनोखी विदाई देकर मिसाल पेश की है।

दोस्तों ने खेली शव के साथ होली

दरअसल, दोस्त की मौत के बाद उसके सभी दोस्त शव को अपने बचपन की जगह ले गए। दोस्तों ने भारी मन से शव के साथ होली खेली और फिर नम आंखों से हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। ये सभी लोग सदरपाटा ग्रुप से है, जो कई वर्षों से बनाया था। मृतक राकेश वैद इसी ग्रुप का एक महत्वपूर्ण सदस्य था।

मृतक राकेश की जीवटता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वह पिछले 25 साल से व्हीलचेयर पर रहने के बाद भी अपनी बीमारी को नजरअंदाज कर दोस्तों को जीवन के गुण बताता रहा। इतना ही नहीं इस समूह के लोगों के परिवार को भी जोड़कर रखा हुआ था।

लंबी बीमारी के बाद हुई इलाज के दौरान मृत्यु

दरअसल राकेश का रविवार को लंबी बीमारी के बाद इलाज के दौरान निधन हो गया था। खबर मिलते ही सभी दोस्त टैगोर नगर स्थित एमआर कॉलोनी स्थित उनके घर पहुंच गए।

मृतक के परिजनों की सहमति से उसके दोस्त के शव को उसके लड़कपन की जगह ले जाया गया, फिर वहां से रंग और गुलाल से होली खेलते हुए सदर बाजार होते हुए श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया।

केदार गुप्ता, सुरेश भंसाली, प्रदीप जैन, महेन्द्र कोचर, कृष्णा कच्छावा, दीपचंद कोटढया ने बताया कि राकेश साल भर होली के त्योहार का इंतजार करते थे और महाशिवरात्रि के बाद होली के दिन तक सभी दोस्तों से होली की तैयारी पर चर्चा किया करते थे।

उन्हें होली बहुत पसंद था। होली के प्रति उनकी दीवानगी इस कदर थी कि वह अपने सभी दोस्तों को संदेशवाहकों के जरिए मिठाई का डिब्बा उनके घर भेजकर परिवार के साथ होली मनाने के न्यौता भेजा करते थे। मृतक राकेश वही व्यक्ति था जिसने रायपुर के सदर बाजार में होली के दिन रेनडांस की शुरूआत (Ek Anokhi Holi) की थी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments