Tuesday, April 23, 2024
HomeदेशKnowledge News: जानिए कौन माने जाते हैं VIP और VVIP, क्या आपको...

Knowledge News: जानिए कौन माने जाते हैं VIP और VVIP, क्या आपको पता है दोनों में अंतर?

Difference Between VIP and VVIP: बचपन से लेकर बड़े होने तक हम सब कुछ ऐसे शब्द सुनते आए हैं जिनको लेकर आदर का भाव या गर्व महसूस होने के साथ अक्सर मन में खुद भी वैसा बनने की इच्छा जरूर रही होगी. वो शब्द है VIP या VVIP. इस शब्द का अर्थ तो अब सभी जानते हैं लेकिन आखिर इस एलीट क्लास यानी खास तबके में कौन कौन से लोग आते हैं इसको लेकर आज भी जानकारी का अभाव है. इसीलिए हम आपको ये बताने जा रहे हैं कि आखिर अपने देश में किसे VIP और किसे VVIP का दर्जा दिया जाता है.

VIP यानी वेरी इंपॉर्टेंट पर्सन (Very Important Person)
VIP यानी वेरी इंपॉर्टेंट पर्सन. ये शॉर्ट फॉर्म उन लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिन्हें आम आदमियों से अलग कुछ सुविधाएं दी जाती हैं. इन लोगों के साथ अच्छा बरताव यानी शिष्टाचार भरे व्यवहार की अपेक्षा की जाती है. सरकारी मंत्रालय चाहे तो वह किसी आम आदमी को भी वीआईपी की टैग और ट्रीटमेंट दे सकता है. उनके लिए विभिन्न समारोहों में शामिल होने के लिए VIP प्रवेश द्वार या ऐसी प्रवेश द्वार की व्यवस्था की जाती है जहां वे अपनी निजी गाड़ी से पहुंच सकते हैं. वहीं उनकी सुरक्षा भी सुनिश्चित की जा सके.
तो देखा आपने की जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि VIP से कही अधिक महत्वपूर्ण है VVIP यानी वेरी वेरी इंपॉर्टेंट पर्सन. VVIP लोगों की लिस्ट में सुरक्षा अधिक जुड़ जाती है यानी कि अगर कोई VVIP शख्स है तो उनकी सुरक्षा अधिक होगी और उन्हें अधिक बॉडीगार्ड प्रदान किए जाते हैं. VVIP जगहों और शो का टिकट VIP से कहीं अधिक होता है.
VIP और VVIP में अंतर
1. जहां वीआईपी को सामान्य व्यक्तियों से अधिक सुविधाएं मिलती हैं वहीं दूसरी तरफ VVIP को VIP से अधिक सुविधाएं मिलती है.
2. वीआईपी का अर्थ जहां वेरी इंपॉर्टेंट पर्सन है वहीं वीवीआईपी का अर्थ वेरी वेरी इंपॉर्टेंट पर्सन होता है.

देश में VIP और VVIP की सूची
1. राष्ट्रपति
2. उपराष्ट्रपति
3. राज्यपाल और उपराज्यपाल
4. राज्य सभा, लोक सभा और विधान सभाओं के अध्यक्ष
5. सांसद (MP), विधायक (MLA), विधान पार्षद, निगम पार्षद, IAS और IPS अधिकारी
6. विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता और जनप्रतिनिधि
7. चीफ जस्टिस
8. सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के न्यायाधीश
9. मीडियाकर्मी और एडिटर्स को वीआईपी और वीवीआईपी के रूप में भी जाना जाता है. 10. विदेश से आए वीआईपी लोगों को भी खास प्रोटोकाल के तहत ट्रीट किया जाता है.

PM के VIP रूट का प्रोटोकॉल
गौरतलब है कि भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा किसी भी देश के अन्य प्रमुखों की तरह कड़ी होती है. भारत के प्रधानमंत्री को 24 घंटे सुरक्षा मुहैया कराने की जिम्मेदारी SPG यानी स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप की होती है. प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं, एसपीजी के सटीक निशानेबाजों को हर कदम पर तैनात किया जाता है. ये शूटर एक सेकेंड के अंदर आतंकियों को मार गिराने में सक्षम होते हैं. इन जवानों को अमेरिका की सीक्रेट सर्विस की गाइडलाइंस के मुताबिक ट्रेनिंग दी जाती है. SPG के जवानों के पास MNF-2000 असॉल्ट राइफल, ऑटोमेटिक गन और 17 एम रिवॉल्वर जैसे आधुनिक हथियार होते हैं.

प्रधानमंत्री के काफिले में 2 बख्तरबंद BMW 7 सीरीज सेडान, 6 BMW X-5 और एक मर्सिडीज बेंज एंबुलेंस के साथ एक दर्जन से अधिक वाहन मौजूद होते हैं. इनके अलावा, एक टाटा सफारी जैमर भी काफिले के साथ चलता है. वहीं उनका बुलेटप्रूफ वाहन भी साथ होता है.

VIP के लिए हमेशा कम से कम दो रूट तय किए जाते हैं. किसी को रूट की पहले से जानकारी नहीं होती है. अंतिम समय में SPG रूट तय करती है. किसी भी समय SPG रूट बदल सकती है. SPG और स्टेट पुलिस में कॉर्डिनेशन रहता है. स्टेट पुलिस से रूट क्लियरेंस मांगी जाती है. पूरा रूट पहले से क्लियर किया जाता है.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments