Friday, March 1, 2024
HomeकोरबाKorba : सारा दिन पिता के साथ बाजार में सब्जियां बेचता, फिर...

Korba : सारा दिन पिता के साथ बाजार में सब्जियां बेचता, फिर रात में पढ़ाई और अफसर बन गया बबलू

कोरबा। प्रतिभा किसी मौके की मोहताज नहीं होती। देर से ही सही पर अपना रास्ता ढूंढ ही लेती है और अपने उस मुकाम को पा लेती है, जिसका सपना कभी उसने देखा था। पिता के साथ बाजार में दिन भर सब्जियां बेचने वाला बबलू भी एक ऐसी ही प्रतिभा का नाम है, जिन्होंने कठिनाई के बीच अपनी कोशिशों से कभी मुंह न मोड़ा। उसकी मेहनत रंग लाई और आज वह अफसर बन गया है।

शहर के सीतामढ़ी क्षेत्र का निवासी बबलू गुप्ता वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्त हुआ। इस मुकाम पर पहुंचने उन्होंने न तो महंगी कोचिंग क्लास की और न ही कोई और शॉर्ट कट की राह देखी। उन्होंने अपनी मेहनत के बूते अपना लक्ष्य हासिल किया। उनके पिता संतोष गुप्ता बाजार में आलू-प्याज बेचकर घर खर्च चलाते हैं। इस कार्य में बबलू भी हाथ बंटाते रहे। बबलू ने जब सिविल सर्विस की तैयारी करने का फैसला किया, तो कोचिंग क्लास जाने के लिए पैसे नहीं थे। पर उन्होने कभी मुश्किल हालातों के आगे घुटने नहीं टेके और अपने फैसले पर अड़े रहे। दिन-रात मेहनत की और जीएसटी इंस्पेक्टर बनने में सफलता हासिल कर लिया। बबलू बचपन से ही पढ़ाई में होनहार रहा, इसलिए पिता ने पढ़ाई करने से नहीं रोका।

 

पढ़ाई में मेधावी रहा, 12 में लाए मेरिट अंक

 

बबलू ने रानी रोड स्थित गायत्री स्कूल 2015 में 12वीं 95.6 प्रतिशत छत्तीसगढ़ मेरिट सूची में 5वीं रैंक हासिल कर कोरबा जिला का नाम रोशन किया था। उसके बाद सेेेेे लगातार मेहनत करते रहे। 2020 में एसएससी परीक्षा के समय पढ़ाई के साथ-साथ बुधवारी बाजार में बड़े भाई गोपाल गुप्ता के साथ आलू-प्याज भी बेचा। इसी दौरान चाचा और पिता की तबीयत खराब होने पर अस्पताल में भी रहता था लेकिन हिम्मत नहीं हारा व समय निकाल कर तैयारी जारी रखा।

कभी पोस्टमैन बने, तो रेलवे-एनटीपीसी में कुछ अंक से चुके

 

संघर्ष करते हुए बबलू वर्ष 2018 में पोस्ट ऑफिस में जीडीएस के रूप में सेलेक्ट हुआ और पोस्टमैन के रूप में अपनी सेवा दिया। 2018 में रेलवे ग्रुप डी क्लियर किया लेकिन फिजिकल में चूक गया। 2019 रेलवे एनटीपीसी क्लियर करने से 3 नंबर से चूक गया। पोस्ट ऑफिस में काम करते हुए 2020 में एसएससी सीजीएल का पहला प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली। 2021 में एसएससी एमटीएस फर्स्ट बार में ही क्लियर कियाl 2022 में एसएससी सीएचएसएल परीक्षा क्लियर किया पर मेन्स में रह गया। 2022 में एसएससी सीपीओ सब इंस्पेक्टर का एग्जाम क्लियर किया लेकिन चेस्ट 2 सेंटीमीटर कम पड़ गया और उसमें भी सेलेक्ट नहीं हो पाया। 2022 एसएससी सीजीएल फिर से क्लियर किया लेकिन मेन्स में 0.9 नंबर से चूक गया। इन असफलताओं पर भी वह हिम्मत नहीं हारा और हौंसला बनाये रखा। आखिरकार एसएससी सीजीएल 2023 क्लियर किया और ऑल इंडिया रैंक 641 जीएसटी (एक्साइज इंस्पेक्टर) बन गया। इस परीक्षा को भी एम.टी.एस. के पद पर कार्य करते हुए क्लियर किया। एम.टी.एस. के रूप में अभी वह केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग बिलासपुर में पदस्थ हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments