Wednesday, February 28, 2024
Homeकोरबाशिक्षा व्यवस्था पर कलेक्टर ने ली क्लास बोले " 12वीं पास बेरोजगार...

शिक्षा व्यवस्था पर कलेक्टर ने ली क्लास बोले ” 12वीं पास बेरोजगार हो अतिथि शिक्षक, अनुपस्थित शिक्षकों पर हो कड़ी कार्यवाही, मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता हो सुनिश्चित..”

0 कलेक्टर अजीत वसंत ने बैटक लेकर डीईओ, आदिवासी विभाग के अफसरों को दिए निर्देश

कोरबा। कलेक्टर अजीत वसंत ने सरकारी स्कूलों की दशा-दिशा ठीक करने की अपनी मंशा स्पष्ट करते हुए गुरुवार को एक जरूरी बैठक ली। उन्होंने कहा कि अफसर सुनिश्चित करें, स्कूल समय पर लग रहा है या नहीं। शिक्षक अगर नदारद मिलें तो सख्ती से पेश आएं और त्वरित कार्रवाई करें। इसके साथ ही उन्होंने हॉस्टल अधीक्षकों को भी अपनी संस्था के विद्यार्थियों की शिक्षा-दीक्षा की कमान संभालते हुए कक्षाएं लेने के निर्देश दिए हैं।

 

 


कलेक्टर अजीत वसंत ने गुरुवार को शिक्षा विभाग, आदिवासी विकास विभाग, खेल व युवा कल्याण विभाग सहित परियोजना अधिकारी, साक्षर भारत, समग्र शिक्षा और विकासखंड शिक्षा अधिकारी की बैठक ली। उन्होंने शिक्षा अधिकारी जीपी भारद्वाज को निर्देशित किया कि जिले में सभी स्कूलों का संचालन समय-सारिणी के अनुरूप हो। बिना सूचना के अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए उन्होंने जिले में शिक्षा व्यवस्था को गुणवत्तामूलक बनाने के निर्देश दिए।
कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में कलेक्टर श्री वसंत ने शैक्षणिक संस्थान अन्तर्गत निमार्णाधीन कार्यों की गुणवत्ता के साथ समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने डीईओ को निर्देशित किया कि जिले में जहां भी अतिशेष शिक्षक हैं, उनका समायोजन अन्य विद्यालयों में किया जाए। उन्होंने विशेष पिछड़ी जनजाति परिवारों के अंतर्गत 12वीं उत्तीर्ण बेरोजगारों को स्कूलों में अध्यापन के लिए अतिथि शिक्षक के रूप में रखें। स्कूलों में मध्यान्ह भोजन के वितरण को नियमित और गुणवत्तायुक्त सुनिश्चित करने कहा। अधिकारियों को जिले में शिक्षा के स्तर और बेहतर बनाने की दिशा में प्रयास करने और नवाचार को अपनाने के निर्देश दिए। इस दौरान निगम आयुक्त सुश्री प्रतिष्ठा ममगई, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग के अधिकारी, डीएमसी मनोज पांडेय, खेल अधिकारी उपस्थित थे।

तय मानकों के अनुसार करें छात्रावासों की व्यवस्था

कलेक्टर ने जिले के सभी आश्रम तथा छात्रावासों का संचालन व्यवस्थित तथा शासन के निर्धारित मानकों के आधार पर संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देशित किया कि आश्रम तथा छात्रावासों में नियमित साफ-सफाई, मेनू अनुसार भोजन तथा समय पर खेल, अध्यापन व अन्य गतिविधियां संचालित हों। उन्होंने अधीक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित करते हुए कम से कम दो पीरिएड पढ़ाने के निर्देश भी दिए।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments