Monday, July 15, 2024
HomeUncategorizedमहापौर में दम है तो न्यायालय के भाती गीता में हाथ रख...

महापौर में दम है तो न्यायालय के भाती गीता में हाथ रख के क़सम खाये की कमीशन नहीं लेते :-हितानंद अग्रवाल

The duniyadari कोरबा:- फर्जी जाति, अपने वार्ड में विरोध, कचरा गोदाम में ताला बंद, अपने वार्ड के लोगो के साथ धोखा ऐसे कितने कार्य सराहनीय कार्य हुए महापौर के राज में, महापौर में दम है तो न्यायालय की भाँति गीता में हाथ रख कर क़सम खाए की कमीशन नहीं लेते :- हितानंद अग्रवाल*

नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष हितानंद अग्रवाल ने कहा कि कोरबा की जनता के सामने सच्चाई लाने पर फर्जी जाति वाले महापौर को जमकर मिर्ची लग गई और उन्हें जल्दबाजी में बयान जारी करना पड़ा|

उन्होंने आगे कहा कि महापौर कह रहे हैं की बारिश के बाद सड़क का निर्माण फिर से होगा मतलब एक बार फिर से कमीशन का खेल कोरबा जिले में देखने को मिलेगा, अगर निर्माण एजेंसी कितनी ही सही थी तो उन पर आपने क्या कार्यवाही की यह भी सार्वजनिक करें |

हितानंद अग्रवाल ने आगे कहा कि उन्होंने कभी भी पद और टिकट की लालसा नहीं की, पार्टी ने जो भी कार्य दिया उसे निष्ठा से किया है, भाजपा पार्टी में एक छोटे से छोटे कार्यकर्ता को महत्व दिया जाता है किसी मंत्री या नेता की अनुकंपा की जरूरत नहीं होती है, सोशल मीडिया पर बने रहने के लिए महापौर के द्वारा बयान बाजी की जा रही है हमने जो सच्चाई है उस पर आरोप लगाया है |

कोरबा के महापौर को उनके ही वार्ड की जनता ने कचरा गोदाम में बंद कर दिया था, कोरबा के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ की नगर निगम के महापौर को उनके ही निर्वाचित वार्ड की जानता ने कचरा गोदाम में बंद कर दिया, ये महापौर के लिए चुल्लू भर पानी में डूब जाने वाली बात है, महापौर स्वयं पम्प हाउस में शासकीय मकान को क़ब्ज़ा कर रखा है साथ ही अन्य भी जगह महापौर ने शासकीय मकानों पर क़ब्ज़ा कर रखा है, महापौर ने अपने वार्ड की जनता के साथ कोरबा की जनता को भी गुमराह किया है फर्जी जाति प्रमाण पत्र मामले में जांच हो गई इसके बाद भी पद का मोह नही त्यागा, वार्ड क्रमांक 14 पंप हाउस में जहां से पार्षद बनकर महापौर बने वहा की जनता को झूठ और सिर्फ झूठ बोला है, अभी कुछ दिनों पूर्व पेपर में छपा था कि महापौर के वार्ड में 12 करोड़ के कार्य हुए जनता को मालूम नही 12 करोड़ के कार्य हो गए, नाला बना बस्ती वासियों के जी का जंजाल, लोगों के घर उजाड़ने को है और महापौर सरकारी पैसे से भ्रमण पर रहते है, महापौर ने पंप हाउस में नया पंप हाउस सुघर पंप हाउस का नारा दिया था लेकिन समय बिता न पंप हाउस नया बना और न की सुघर बना, अटल आवास के लोगो के जान से खेलने वाले महापौर ये बता दे की किस मद से अटल आवास का मरम्मत कराया गया हैं उसी मद से बाकी अटल आवास का कार्य क्यो नही कराया गया है, कचरा गोदाम में पंप हाउस की जनता ने कचरा गोदाम में महापौर को घेरा था वो दिन कोई नही भुला है, चुनाव परिणाम जो भी हो लेकिन महापौर अपने वार्ड में लोक सभा और विधान सभा चुनाव में भाजपा से 1000 वोटो से दोनो चुनाव में पीछे रहे |

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments