Tuesday, July 23, 2024
Homeछत्तीसगढ़CG Crime: पुरानी रंजिश की वजह से हुई थी कांग्रेस नेता विक्रम...

CG Crime: पुरानी रंजिश की वजह से हुई थी कांग्रेस नेता विक्रम बैस की हत्या, भिलाई में की थी प्लानिंग

नारायणपुर/भिलाई। CG Crime: नारायणपुर में कांग्रेस नेता विक्रम बैस की हत्या के पीछे पुरानी रंजिश की वजह सामने आई है। मृतक से बदला लेने के लिए पहले आरोपियों ने भिलाई में एक होटल में बैठ कर पूरी प्लानिंग की फिर सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम दिया। मामले का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने बताया कि 13 मई की रात को कांग्रेस नेता विक्रम बैस निवासी बखरूपारा नारायणपुर की धारदार हथियार व गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। रात को वे ढाबा से खाना खाकर लौट रहे थे त​ब बाइक सवार हमलावरों ने उन पर गोलियां मारकर हत्या कर दी। इस मामले में थाना नारायणपुर में मर्ग एवं प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज किया गया था।

 

 

 

CG Crime: प्रकरण की गंभीरता को देते हुए पुलिस अधीक्षक के निर्देशन पर अलग-अलग टीम का गठन किया गया । मामले में बारीकी से पूछताछ, सीसीटीवी फुटेज व सायबर एनालिसिस के आधार पर मनीष राठौर निवासी नारायणपुर का नाम सामने आया। आरोपी मनीष राठौर, जसप्रीत सिंह सिद्धू, विश्वजीत नाग, विप्लव एवं विवेक अधिकारी के द्वारा लगभग डेढ़ महीने पहले हत्या की साजिश रची गई थी। इसके लिए भिलाई के इंडियन कॉफी हॉउस में पिस्टल खरीदने एवं हत्या की प्लानिंग के लिए मनीष राठौर, विश्वजीत नाग, राजीव रंजन यति उर्फ राजू उर्फ बिहारी, संदीप यादव उर्फ संजू और सैमुआल उर्फ रायनुन्तलम के साथ मीटिंग किया गया। हत्या में उपयोग हुआ पिस्टल जिला सिवान बिहार से लाया गया था।

 

 

 

CG Crime: दो दिनों तक रैकी के बाद हत्या

 

 

 

पुलिस के अनुसार घटना को अंजाम देने के पहले दो दिनों तक आरोपियों के द्वारा मृतक की रेकी की गई थी। घटना के दिन मृतक विक्रम बैस को अकेला पाकर आरोपी संजू यादव और विश्वजीत नाग ने मिलकर गंडासा से वार कर और पिस्टल से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। घटना में प्रयुक्त पिस्टल को मनीष राठौर के गोदाम में छुपा दिया गया था।

 

 

 

CG Crime: प्रकरण में दुर्ग, रायपुर एवं बिलासपुर की एसीसीयू टीम तथा सायबर टीम की सहायता से आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपियों में विश्वजीत नाग नारायणपुर, संदीप यादव उर्फ संजू दुर्ग, राजीव रंजन यति उर्फ राजू उर्फ बिहारी दुर्ग, आर. सैमुआल उर्फ रायनुन्तलम दुर्ग, जसप्रीत सिंह उर्फ पोतू नारायणपुर, विवेक अधिकारी उर्फ सिदाम नारायणपुर शामिल हैं। हत्या का मुख्य आरोपी मनीष राठौर अभी फरार है।

 

 

CG Crime: अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में प्रमुख रूप से जिला दुर्ग, रायपुर एवं बिलासपुर एसीसीयू टीम तथा जिला नारायणपुर से निरीक्षक-थाना प्रभारी दिनेश चन्द्रा, उप निरीक्षक धीरेन्द्र तिवारी, सउनि रूमन्त देवांगन प्रभारी सायबर सेल एवं साइबर सेल नारायणपुर के महत्वपूर्ण योगदान रहा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments